Automobile

दुनिया की सबसे लोकप्रिय फॉस्फेटिक DAP खाद का इस तरह इस्तेमाल बनायेगा आपको लाखो का मालिक जाने फायदे एवं नुकसान..

दुनिया की सबसे लोकप्रिय फॉस्फेटिक DAP खाद का इस तरह इस्तेमाल बनायेगा आपको लाखो का मालिक जाने फायदे एवं नुकसान..

दुनिया की सबसे लोकप्रिय फॉस्फेटिक DAP खाद का इस तरह इस्तेमाल बनायेगा आपको लाखो का मालिक जाने फायदे एवं नुकसान.. भारत की लगभग आधी आबादी खेती किसानी पर व निर्भर है, ऐसे में वह अच्छी उपज के लिए खाद का इस्तेमाल करते हैं। कुछ किसान अभी भी जैविक खाद जैसे की पशुओं के गोबर, केंचुए की खाद आदि का उपयोग करते हैं जबकि अधिकतर किसान डीएपी खाद का इस्तेमाल कर रहे हैं। DAP Fertilizer यानि की डाई अमोनियम फास्फेट को दुनिया की सबसे लोकप्रिय फॉस्फेटिक खाद में से एक माना जाता है। लेकिन आपको इसके इस्तेमाल से पहले इसके फायदे व नुकसान DAP Fertilizer के बारे में जरूर जान लेना चाहिए…



यह भी पढ़े :-Royal Enfield की वाट लगाने आ गयी स्पोर्टी लुक में Bajaj Avenger जिसके एडवांस फीचर्स ने मार्केट में मचाई धूम कीमत सिर्फ इतनी

दुनिया की सबसे लोकप्रिय फॉस्फेटिक DAP खाद का इस तरह इस्तेमाल बनायेगा आपको लाखो का मालिक जाने फायदे एवं नुकसान..

डीएपी उर्वरक विवरण DAP Fertilizer detail

भारत में हरित क्रांति के बाद कैमिकल व डीएपी खाद को काफी बढ़ावा मिला। बता दें कि डीएपी खाद किसानों के लिए लोकप्रिय खाद बन चुकी है। इसे डाई के नाम से भी जाना जाता है। अब इस बात में कोई दोराय नहीं है कि हर चीज के सकारात्मक व नकारात्मक दोनों प्रभाव होते हैं। ऐसे ही डीएपी खाद के भी कुछ लाभ तथा कुछ नुकसान है। इसी संदर्भ में आज हम डीएपी खाद के इस्तेमाल के कुछ लाभ व नुकसान बताने जा रहे हैं।

पौषक तत्वों के लिए महत्वपूर्ण है DAP Fertilizer

डाई अमोनियम फास्फेट खाद किसानों की पहली पसंद है। डीएपी एक क्षारीय प्रकृति वाला रसायनिक उर्वरक है, जिसमें 46 फीसद फास्फोरस और 18% नाइट्रोजन पाया जाता है। डीएपी को खेतों में डालने से फसलों को सारे पोषक तत्व मिलते रहते हैं और नाइट्रोजन- फास्फोरस की कमी पूरी होती है। डीएपी नलशील होते हैं, जो फसलों में सिंचाई करते ही मिट्टी में घुल जाते हैं।

कब करें डीएपी खाद का इस्तेमाल When to use DAP Fertilizer

फसल की बुवाई के वक्त ही डीएपी खाद का इस्तेमाल कर लेना उचित होता है, ताकि यह मिट्टी के साथ अच्छे से मिल जाए। इसके अलावा अधितकर किसान डीएपी खाद को फसल की सिंचाई के वक्त भी खेतों में उपयोग करते हैं। ध्यान देने योग्य बात यह कि किसानों को प्रति एकड़ 50 किलो की दर से डीएपी खाद DAP Fertilizer का छिड़काव करना चाहिए।

डीएपी खाद के फायदे Benefits of DAP Fertilizer

नाइट्रोजन व फास्फोरस की भरपूर मात्रा होने की वजह से पौधों में लंबे वक्त कर पौषक तत्वों की पूर्ती करते हैं। पौधों को पनपने के लिए डीएपी अहम भूमिका निभाता है। तिलहन व दलहन की फसलों के लिए डीएपी खाद बहुत अनुकूल है। डीएपी खाद पौधों के पोषक तत्वों के लिए बेहद उपयोगी माना जाता है। पौधों की कोशिकाओं के लिए बहुत उपयोगी है।

डीएपी खाद के नुकसान Disadvantages of DAP Fertilizer

जैसा कि यह एक रसायनिक खाद है, तो जाहिर सी बात है कि इसके कुछ नुकसान भी होंगे ही। किसी भी रसायनिक खाद या डीएपी खाद का इस्तेमाल करने से मिट्टी की उपजाऊ क्षमता खत्म होती जाती है या फिर कम होने लगती है। अनाज, सब्जियों व फलों में भी कैमिकल की कुछ मात्रा आ जाती है, जिससे खाने पर इसका कुछ अंश हमारे शरीर में भी आ जाता है। इसके अलावा बारिश होने पर जब खेत की मिट्टी एक जगह से दूसरी जगह पर पहुंचती है तो वह अपने साथ कैमिकल खाद DAP Fertilizer को भी लेकर जाती है।

 यह भी पढ़े :-भारतीय बाजार में लांच हुआ Vivo का ये सिंगल पीस 200MP कैमरा और 8000mAH बैटरी के सामने फेल है Oneplus

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button