AAj Tak Ki khabarIndia News UpdateNationalTaza Khabarमनोरजन

एक्टर अर्जुन बिजलानी के अकाउंट से उड़े रुपये, बोले-मैं जिम में था, ओटीपी तक नहीं आया, ये डरावना है

एक्टर अर्जुन बिजलानी ने अपने साथ हुई साइबर फ्रॉड की शॉकिंग घटना बताई है। किसी ने उनका क्रेडिट कार्ड हैक करके पैसे गायब किए। उनके पास ओटीपी तक नहीं आया। अर्जुन के साथ जब यह घटना हुई उस वक्त वह जिम में थे। उन्होंने मोबाइल चेक किया तो कई मैसेज पड़े थे जिनसे पता चला कि ट्रांजैक्शंस हुए हैं।




मैसेज पढ़कर उड़े होश

अर्जुन बिजलानी साइबर ठगी का शिकार हुए हैं। उन्होंने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया, ‘मेरा क्रेडिट कार्ड सिर्फ मेरे पास था और मैं जिम में वर्कआउट कर रहा था। एक छोटे से ब्रेक के दौरान मैंने अपना फोन चेक किया वहां मेरा क्रेडिट कार्ड स्वाइप होने के एक के बाद एक मिनट के कई मैसेजज थे और लगातार ट्रांजैक्शंस हुए थे।’

लीक हुई डिटेल

अर्जुन बोले, ‘मेरी वाइफ के पास भी एक सप्लिमेंट्री कार्ड है तो मैंने उनसे पूछा तो पता चला कि वो कार्ड भी उनके पास था। इसलिए जाहिर सी बात है कि डिटेल्स लीक हुई थीं, हमें समझ नहीं आ रहा कि ऐसा कैसे हो गया।’

7-8 बार हुआ ट्रांजैक्शन

अर्जुन ने इन मैसेजज से सतर्क होकर तुरंत अपना कार्ड ब्लॉक करवा लिया ताकि पैसों का और नुकसान न हो जाए। इस घटना की सूचना उन्होंने साइबर क्राइम सेल को दे दी है। अर्जुन बोले, ‘यह घटना आंखें खोलने वाली है। उस वक्त अगर मैं सो रहा होता तो क्या होता? बहुत से लोग सारे मैसेज नहीं चेक करते हैं लेकिन अब समझ में आया कि ये मैसेज पढ़ना कितना जरूरी होता है। खुशकिस्मती से मैंने देख लिया और सिर्फ 7 से 8 ट्रांजैक्शंस थे। हर ट्रांजैक्शन 3 से 5 हजार का था। कुल मिलाकर कार्ड से 40 हजार गए। मेरे क्रेडिट कार्ड की लिमिट 10-12 लाख की है। इसलिए फोन चेक न किया होता तो सिचुएशन और बिगड़ सकती थी।

एक्टर अर्जुन बिजलानी के अकाउंट से उड़े रुपये, बोले-मैं जिम में था, ओटीपी तक नहीं आया, ये डरावना है

बिना ओटीपी के गए पैसे

अर्जुन ने चिंता जताई कि हर ट्रांजैक्शन से पहले ओटीपी आता है लेकिन उनके पास नहीं आया। वह हैरान हैं कि बिना ओटीपी के ट्रांजैक्शंस कैसे हो गया। अर्जुन ने तय किया है कि वह हर छह महीने पर अपना क्रेडिट कार्ड बदलेंगे।

PRITI SINGH

Editor and Author with 5 Years Experience in INN24 News.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button