बिजनेस

Business Idea कम बजट में तगड़ा मुनाफा देने वाली ये जबरदस्त खेती जाने प्रोसेस

Business Idea कम बजट में तगड़ा मुनाफा देने वाली ये जबरदस्त खेती जाने प्रोसेस। जानकारी के लिए बता दे की अब ये खेती हो या बिजनेस वही चीजें फायदेमंद होती जिनकी मार्केट में अधिक मांग बताई जा रही है। ऐसे में अगर आप ये हल्दी की खेती करते तो भारी मुनाफा भी होगा।




भारत में हल्दी उत्पादन

ICAR की रिपोर्ट के मुताबिक अब ये दुनिया में कुल हल्दी उत्पादन का 75% हिस्सा तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में उगाया जायेगा। अब ये तेलंगाना देश का सबसे बड़ा हल्दी उत्पादक राज्य भी बताया जा रहा है। अब ये इरोड (TM) और सांगली (MH), जिससे दुनिया में ‘पीला शहर’ या ‘हल्दी शहर’ के नाम से पहचाना जायेगा।अब ये हल्दी के सबसे बड़े उत्पादक और सबसे जरुरी व्यापारिक केंद्र बताया जा रहा है।

कम बजट में कातिलाना फीचर्स के साथ launch हुई Hero Karizma XMR की धमाकेदार बाइक

हल्दी की खेती की विधि

बता दे की अब ये हल्दी गर्म एवं आर्द्र जलवायु का पौधा बताया जा रहा है। अब ये प्रकंदों के समुचित विकास के लिए 1500 से 2250 मिमी वर्षा तथा 20-30 डिग्री सेल्सियस तापमान अनिवार्य बताया जा रहा है। अब ये हल्दी के जबरदस्त उत्पादन के लिए जल निकास वाली दोमट जलोढ़, लैटेराइट मिट्टी अच्छी बताई जा रही है। Business Idea कम बजट में तगड़ा मुनाफा देने वाली ये जबरदस्त खेती जाने प्रोसेस।

चुपके से launch हुई 7-सीटर वाली Renault Triber की स्टेंडर्ड फीचर्स और तगड़े इंजन के साथ

बुवाई का टाइम

भारत देश में इसकी खेती मध्य अप्रैल से मध्य जुलाई तक चालू की जाएगी। बताया जा रहा की भारत में इसकी खेती फरवरी-मार्च से चालू की जाएगी। ये पौधों के बीच 25 सेमी की दूरी रखते हुए कंदों को 25-30 सेमी आकार के गड्ढों में अच्छी और से सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट से भरकर रखा जायेगा।जो मिट्टी से ढक दिया जायेगा। अब ये एक हेक्टेयर में हल्दी लगाने के लिए लगभग 2.5 टन ताजा प्रकंदों की जरूरत भी होगी।

हल्दी की किस्में

जानकारी के मुताबित अब भारत देश में हल्दी की 30 से ज्यादा  किस्में उगाई जाती जो भारत देश के 20 से ज्यादा राज्यों में उगाई जाएगी।साथ ही ये केरल में एलेप्पीफिंगर, महाराष्ट्र में राजापुर, करहदी, वैगन, आंध्र प्रदेश में निज़ामाबाद, आर्मूर, वोंटीमिट्टा, इरोड लोकल, तमिलनाडु में बीएसआर-1, पीटीएस-10, पश्चिम बंगाल और असम में पट्टांटा, लकडोंग, लाहशिन, लाडवा, लक्षेन मेघालय. , मेघ-1, मिजोरम में लकडोंग, आरटी-1 जबकि मणिपुर और सिक्किम में लकडोंग और स्थानीय किस्में भी बताई जाएगी।

12GB रैम और 512GB स्टोरेज के साथ launch हुआ Realme GT Neo 3 का सस्ता सुन्दर smartphone

अब ये मौसम और मिट्टी की स्थिति के आधार पर भारी मिट्टी में लगभग 15 से 23 बार और बलुई दोमट मिट्टी में 40 बार हल्की और लगातार सिंचाई भी करनी होगी।जब आप मिट्टी में उचित नमी हो तो हल्दी की खुदाई की जाएगी। जिसकी पत्तियों से ढककर 7-8 दिनों के लिए ठीक होने के लिए छोड़ दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button