मनोरजन

17 वर्ष की उम्र में शादी करके कैसे बनी 60 देशों की बनी फैन पहले तो घर-घर बेची आइसक्रीम जाने रहस्य

आप को बता दे की अगर दिल में कुछ करने की चाह और मेहनत करने की जज्बा हो तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है। अब ये कराची में जन्मीं रजनी बेक्‍टर इसकी जीती-जागती मिसाल है। अब ये मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशियलिटीज की फाउंडर रजनी बेक्‍टर ने घर के किचन से अपनी बिजनेस की जर्नी भी चालू की जा रही है। अब ये अपनी मेहनत, लगन और हुनर के बल पर उन्‍होंने 6 हजार करोड़ रुपये से अधिक मार्केट पूंजीकरण वाली कंपनी खड़ी कर दी। अब उनकी कंपनी क्रिमिका (Cremica) नाम से बिस्किट और इंग्लिश ओवन (English Oven) ब्रांड से ब्रेड बनाती है। जिनके  ग्राहकों की लिस्‍ट में मैकनॉल्‍ड्स और बर्गर किंग जैसी नामी कंपनियां शामिल हैं। 17 वर्ष की उम्र में शादी करके कैसे बनी 60 देशों की बनी फैन पहले तो घर-घर बेची आइसक्रीम जाने रहस्य।




17 वर्ष की उम्र में शादी करके कैसे बनी 60 देशों की बनी फैन पहले तो घर-घर बेची आइसक्रीम जाने रहस्य
17 वर्ष की उम्र में शादी करके कैसे बनी 60 देशों की बनी फैन पहले तो घर-घर बेची आइसक्रीम जाने रहस्य

रजनी बेक्‍टर का जन्‍म कराची में हुआ था। अब उन्‍होंने अपने बचपन के दिन लाहौर में बिताए लाहौर में उनके पिता नौकरी करते थे। वर्ष 1947 में देश विभाजन के समय उनका परिवार दिल्‍ली आ गया। अब ये मात्र 17 साल की उम्र में ही रजनी बेक्‍टर की शादी लुधियाना के रहने वाले धरमवीर बेक्टर से हुई. शादी के बाद उन्‍होंने पढ़ाई पूरी की।

शौक ने बनाया बिजनेस-वूमन

शादी के बाद रजनी के तीन बेटे हुए. बेटे स्‍कूल जाने लगे तो रजनी का घर में अकेले समय काटना मुश्किल होने लगा. उन्‍हें कुकिंग का शौक था. उन्‍होंने पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में एक बेकिंग कोर्स में दाखिला लिया. वे आइसक्रीम, केक और कुकीज बनाती और लोगों को ट्राई करने के लिए देतीं। जिनमे कुछ जानकारों ने उन्‍हें अपने शौक को बिजनेस में बदलने की सलाह दी. 1970 में रजनी ने घर पर ही आइक्रीम बनाकर बेचना शुरू कर दिया। इस और उनके बिजनेस कैरियर की शुरुआत हो गई।

राज्य सरकार की और से जनता को मिली बड़ी सौगात अब इन कर्मचारियों के DA में होंगी इतने गुना बढ़ोतरी

1978 में कुकीज बनाना किया शुरू

17 वर्ष की उम्र में शादी करके कैसे बनी 60 देशों की बनी फैन पहले तो घर-घर बेची आइसक्रीम जाने रहस्य। 1978 में 20,000 रुपये के शुरुआती निवेश के साथ उन्होंने बिस्किट, कुकीज और केक बनाने का काम शुरू कर दिया. इसके बाद तो रजनी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। अब ये चालू में मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेयशियलिटी का नाम क्रिमिका रखा गया। अब इसे ब्रांड नाम से ही बिस्किट और कुकिज बेचने शुरू की. बाद में कंपनी का नाम बदलकर मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशयलिटीज किया गया।

राज्य सरकार की और से जनता को मिली बड़ी सौगात अब इन कर्मचारियों के DA में होंगी इतने गुना बढ़ोतरी

60 से अधिक देशों में एक्सपोर्ट होते हैं प्रोडक्ट

रजनी बेक्‍टर की कंपनी के बिस्किट, ब्रेड और आइसक्रीम 60 से भी अधिक देशों में एक्सपोर्ट किए जाते हैं। अब ये रजनी बेक्टर की कंपनी फास्ट फूड चेन मेक्डोनाल्ड्स और बर्गर किंग को भी ब्रेड सप्लाई करती है। वर्ष 2020 में कंपनी शेयर मार्किट में सूचीबद्ध हो गई। आज मिसेज बेक्‍टर फूड स्‍पेशयलिटी का मार्केट पूंजीकरण 6 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा है। अब ये वर्ष 2021 में रजनी बेक्‍टर को पद्मश्री सम्‍मान दिया गया।

लड़कियों को खूब पसंद आएगा Redmi का धांसू 5G फोन,12GB रैम और 6900mAh कि बैटरी के साथ हुआ लॉन्च जाने कीमत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button