ChhattisgarhExclusiveKorba

कोरबा नगर निगम में सड़क ठेकेदार की मनमानी पर इंजीनियर की सहमति, बिना कार्य के किया भुगतान, निगम आयुक्त ने कहा जाँच होगी

कोरबा नगर पालिक निगम हमेशा से अपने निर्माण कार्य के लिए चर्चा में रहता है। ताजा मामला सुनालिया पुल से शनि मंदिर होते हुए सीतामणी मेन रोड तक सड़क निर्माण कार्य से जुड़ा हुआ है। उक्त सड़क में डामर रोड के साथ स्टड लगाना था जिसकी संख्या लगभग 1200 थी पर भुगतान 1173 का हुआ और आपको जानकर हैरानी होगी के मौके में लगभग 800 स्टड ही लगाया गया है एवं बिल का भुगतान कर दिया गया है। हमारी जानकारी के अनुसार कार्य का फाइनल मेज़रमेंट अप्रैल में हो गया था और बिल का भुगतान अगस्त-सितम्बर में किया गया पर कार्य हुआ ही नहीं था और निगम के अधिकारियों ने ठेकेदार पर मेहेरबानी करते हुए बिल का भुगतान कर दिया। जब इसकी खबर मीडिया में प्रकाशित हुई तब आनन फानन में खानापूर्ति करने स्टड लगाया गया वो भी अधूरा। इस कार्य के इंजीनियर ने एमबी बुक में कार्य हुए बिना क्या देख कर कार्य को अंकित किया और निगम असिस्टेंट इंजीनियर राहुल मिश्रा ने उसे पास कर दिया। जब हमने उनसे बात किया तो उन्होंने कहा की काम हो जायेगा। सवाल यह है की अधूरे काम के लिए बिल का भुगतान किन परिस्थितियों में किया गया और क्यों।

दूसरा मामला वार्ड नं 57 भैरोताल का है जहा 2 बीटी रोड का निर्माण हुआ है। हमारी जानकारी अनुसार पुरानी डामर रोड के उपर ही नए डामर की परत चढ़ाकर पूरा कार्य किया गया है लेकिन बिल में wmm एवं डामर सभी कार्य दिखा कर बिल का भुगतान ठेकेदार को किया गया है। इसकी जानकारी हमने पार्षद श्रुति कुलदीप से ली तब उन्होंने बताया कि जहा सड़क में गड्ढे थे वही बस wmm किया गया है बाकी पूरे सड़क में पुराने डामर के उपर ही सड़क निर्माण किया गया है।

 

अब देखने वाली बात यह है की दोनो काम बिलासपुर की श्रद्धा कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा किया गया है। ऐसी क्या वजह है की बिना कार्य हुए ही फर्जी बिल का सत्यापन कर भुगतान निगम द्वारा किया जा रहा है। क्या श्रद्धा कंस्ट्रक्शन पर किसी व्यक्ति विशेष की कृपा है या वह पूरे विभाग का बहुत खयाल रखते है इसलिए ऐसा भुगतान किया जा रहा है।

हमारी जानकारी के अनुसार भैरोंताल में wmm के अलग अलग ग्रेड के फर्जी बिल लगाकर लाखों का भुगतान निगम से ठेकेदार द्वारा लिया गया है और सुनालियां से शनि मंदिर तक स्टड आज दिनांक तक अधूरा है अब देखने वाली बात होगी की अधिकारी और ठेकेदार के फर्जी बिल की जांच कब होगी और दोषी अधिकारी पर कार्यवाही होगी या इसमें भी लीपापोती कर सभी को बरी कर दिया जाएगा।

जल्द ही निगम के और भी अन्य नए कारनामो का खुलासा किया जाएगा l

 

इस संबंध में निगम कमिश्नर ने जांच कर कार्यवाही की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button