पिता की मौत के बाद पटौदी पैलेस को फिर हासिल करने के लिए सैफ ने चुकाई थी भारी कीमत, खुद किया खुलासा.. || INN24

पिता की मौत के बाद पटौदी पैलेस को फिर हासिल करने के लिए सैफ ने चुकाई थी भारी कीमत, खुद किया खुलासा..

Total Views : 58
Zoom In Zoom Out Read Later Print

INN24:सैफ अली खान पटौदी के 10वें नवाब है। हरियाणा के पटौदी में उनके खानदान का एक आलीशान महल है जिसका नाम पटौदी पैलेस है।पटौदी के नवाब सैफ अली खान अपनी फैमिली से बहुत कनेक्टेड हैं। हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में सैफ अली खान ने अपने पापा मंसूर अली खान को खोने के बाद के समय के बारें में बात की।

पटौदी पैलेस के बारे में बात करते हुए सैफ ने कहा, 'पिता के निधन के बाद पटौदी महल नीमराना होटल्स को किराए पर दे दिया था। नीमराना होटल्स अमन और फ्रांसिस चलाते थे। फ्रांसिस के निधन के बाद अमन मुझसे आकर मिला। अमन ने मुझसे कहा की अगर अपने खानदान की विरासत वापस चाहिए तो आपको हमें बहुत सारा पैसा देना होगा।'सैफ आगे कहते है, 'मैंने फिल्मों के जरिए की कमाई द्वारा पटौदी पैलेस को वापस हासिल किया। मैं नवाब खानदान से ताल्लुक तो रखता हूं, लेकिन मुझे विरासत में कुछ भी नहीं मिला है। 

मैं बॉम्बे में पैदा हुआ था और यहीं मेरी परवरिश भी हुई थी। मेरे पिता मां के साथ कराईकल रोड के फ्लैट में रहते थे। उनकी आखिरी टेस्ट सीरीज उस समय थी, जब मैं चार-पांच साल का था।'सैफ बताते है, 'मेरे पिता अक्सर अपने काम में बीजी रहते थे। ऐसे में मेरी बूढी मां अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए भोपाल और पटौदी में चीजों की देखभाल कर रही थी। वह बूढ़ी हो गई थी। इसलिए हम उनके साथ रहने के लिए दिल्ली चले गए। पिता के रहते तो जैसे-तैसे घर का गुजारा चल जाता था। लेकिन उनके जाने के बाद गुजारा चलाने के लिए हमें पटौदी पैलेस को किराए पर देना पड़ा।'

सैफ ने अपनी पूर्व पत्नी अमृता को अपनी सफलता का श्रेय देते हुए कहा, 'मैं घर से भाग गया था और मैंने 20 साल की उम्र में शादी कर ली थी। मुझे अपनी पूर्व पत्नी अमृता को श्रेय देना पड़ेगा। क्योंकि वो एकलौती ऐसी थी जिन्होंने मुझे परिवार, काम और बिजनेस को संजीदगी से लेना सिखाया। उन्होंने मुझे कहा की तुम किसी टारगेट को हिट नहीं कर सकते जब तुम उसके ऊपर हंस रहे हो।'

आगे देखिये..

Click hear

See More

Latest Photos