कोरबा: फर्जी लोको पायलट हिरासत में.. कारनामे सुनकर आप भी रह जायेंगे दंग.. चोरी की बाइक-मोबाइल के लिए तलाश रहा था ग्राहक. || INN24

कोरबा: फर्जी लोको पायलट हिरासत में.. कारनामे सुनकर आप भी रह जायेंगे दंग.. चोरी की बाइक-मोबाइल के लिए तलाश रहा था ग्राहक.

Total Views : 865
Zoom In Zoom Out Read Later Print

पुलिस ने जब उसके साथ कड़ाई बरती तो वह टूट गया. इसके बाद उनसे जब अपने कारनामो का कच्चा चिट्ठा खोला तो पुलिस भी दंग रह गई. युवक पेशेवर चोर था लेकिन खुद को लोको पायलट बताता था. ज्यादा जानकारी जुटाने पर मालूम हुआ की उसे दुसरे लोग भी लोको पायलट समझते थे.

आपने अक्सर कई मामलो में फर्जी पुलिस, फर्जी शिक्षक यह फिर फर्जी नेताओ के बारे में सुना होगा. जो अपने कारनामो से दूसरो को जमकर चूना लगाते है. लेकिन आज हम आपको किसी फर्जी पुलिस, शिक्षक या नेता की नहीं बल्कि ट्रेन के चालक यानी एक लोकोपायलट के किस्से से रूबरू कराएँगे. यह लोको पायलट ट्रेन तो नहीं चलाता बल्कि चोरी और जालसाजी का धंधा जरूर चलाता है.

दरअसल आज सीएसईबी चौकी पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी की स्टेडियम के पास खड़ा एक शख्स चोरी के मोटरसाइकिल और मोबाइल को खपाने की फिराक में खड़ा हुआ है. पुलिस ने सूचना को गंभीरता से लेते हुए मौके पर दबिश देकर उक्त युवक को हिरासत में ले लिया.


पुलिस ने जब उसके साथ कड़ाई बरती तो वह टूट गया. इसके बाद उनसे जब अपने कारनामो का कच्चा चिट्ठा खोला तो पुलिस भी दंग रह गई. युवक पेशेवर चोर था लेकिन खुद को लोको पायलट बताता था. ज्यादा जानकारी जुटाने पर मालूम हुआ की उसे दुसरे लोग भी लोको पायलट समझते थे.


बस इसी नासमझी का फायदा उठाकर आरोपी उनका फायदा उठाता था. वह उनसे कुछ समय के लिए बाइक मांग लेता था और मौके से भाग निकलता था. इस तरह उसने कितने ही लोगो को अपना निशाना बनाया है. आरोपी का नाम अंकित तिवारी पिता रंजीत तिवारी (34) है. वह कोरबा के सीतामणी का रहने वाला है जबकि मूलतः मध्यप्रदेश के अनूपपुर जिले का निवासी है. दिलचस्प बात यह है की उसके पास से पुलिस ने शुरुआती तौर पर एक बाइक और वीवो कंपनी के मोबाइल समेत करीब 65 हजार का सामान जब्त किया है. पुलिस उससे कड़ाई से पूछताछ कर रही है. जाहिर है आरोपी अंकित अभी कई दुसरे राज भी पुलिस के सामने बयान करेगा. 



See More

Latest Photos