LATEST NEWSNATIONAL

जज के सामने आरोपी आफताब बड़ा कबूलनामा, बताया क्यों की श्रद्धा की निर्मम हत्या

नई दिल्ली: दिल्ली की साकेत कोर्ट ने श्रद्धा मर्डर केस में आरोपी आफताब की पुलिस कस्टडी चार दिन के लिए बढ़ा दी है. आफताब की पुलिस कस्टडी आज खत्म होने वाली थी. आफताब को विशेष सुनवाई के तहत कोर्ट में पेश किया गया. इस दौरान आफताब ने जज के सामने कहा कि जो कुछ भी हुआ, वो HEAT OF THE MOMENT था. यानी जो उसने किया, वो बिना सोचे समझे गुस्से में किया.

इससे पहले पुलिस ने सोमवार को महरौली के जंगलों से एक जबड़ा और कुछ हड्डियां बरामद कीं. दिल्ली पुलिस इसे लेकर एक डेंटिस्ट के पास पहुंची है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि यह जबड़ा श्रद्धा का ही है, या नहीं. डेंटिस्ट इस जबड़े की जांच में जुट गए हैं.

आफताब का सोमवार को नार्को टेस्ट नहीं हो पाया. दरअसल, नार्को टेस्ट से पहले आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट होना है. इससे पहले कोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस को 5 दिन में आफताब का नार्को टेस्ट कराने का आदेश दिया था. दिल्ली पुलिस ने सोमवार को कोर्ट से आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की इजाजत मांगी. बताया जा रहा है कि आफताब ने भी अपनी सहमति दे दी है.

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, आफताब ने पूछताछ में वह जगह बता दी है, जहां उसने श्रद्धा की हत्या में इस्तेमाल हथियार फेंके थे. पूछताछ में आफताब ने बताया कि उसने श्रद्धा मर्डर में इस्तमाल आरी और ब्लेड को गुरुग्राम की DLF फेज 3 की झाड़ियो में फेंका है. वहीं, चापड़ उसने महरौली के 100 फीट रोड स्थित कूड़ेदान में फेंक दिया था.

दिल्ली पुलिस की टीम 2 बार गुरुग्राम में उन झाड़ियो की जांच कर चुकी है. 18 नवंबर को यहां जांच के बाद दिल्ली पुलिस की टीम गुरुग्राम की झाड़ियो से कुछ सबूत लेकर निकली थी, जिसे CFSL जांच के लिए भेजा गया है. इसके बाद 19 नवंबर की जांच में दिल्ली पुलिस मेटल डिटेक्टर के साथ गुरुग्राम गई थी, लेकिन उस दिन दिल्ली पुलिस खाली हाथ ही वापस लौटी.

अभी तक पुलिस को हत्या में इस्तेमाल हथियार, श्रद्धा के शव के बाकी टुकड़े जैसे अहम सबूत नहीं मिले हैं. दिल्ली के कई इलाकों में सर्च जारी है. मैदानगढ़ी का तालाब भी खाली कराया जा रहा है. हालांकि, पुलिस को सोमवार को तालाब खाली कराना बंद करना पड़ा. दरअसल, इसमें सीवर का पानी गिर रहा है. पुलिस ने रविवार को 1 लाख लीटर पानी खाली कराया था. लेकिन सीवर से पानी आने के चलते तालाब फिर से उतना ही भर गया. ऐसे में पुलिस गोताखोरों की मदद लेने पर विचार कर रही है. हालांकि, यह भी उतना आसान नहीं है, क्योंकि तालाब में काफी मलबा भी है.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!