AAJTAK KI KHABARCHHATTISGARHKORBA LATEST NEWSKORBA NAGAR NIGAMKUSMUNDA NEWSKUSMUNDA UPDATESSECL LATEST NEWSSECL NEWSSECL PRO

बेजा कब्जा पर कुसमुंडा प्रबंधन की सख्ती, कोरबा कुसमुंडा मुख्य मार्ग के किनारे हटवाया गया बड़े पैमाने पर अतिक्रमण… आगे भी जारी रहेगी कार्यवाही…..

कोरबा“जहां दिखी जमीन सरकारी वह हो गई हमारी” इस तर्ज पर जिले भर में चल रहे अतिक्रमण की खबरें देखने और सुनने को मिलती रहती हैं। SECL कुसमुंडा क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं रहा है, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता की पूर्व के SECL कुसमुंडा प्रबंधन के जिम्मेदार अधिकारियों की अनदेखी की वजह से क्षेत्र में बड़े पैमाने पर बेजा कब्जा हुए हैं, जो आज तलक चल रहें है, ऐसे में वर्तमान कुसमुंडा जीएम संजय मिश्रा ने हाल में हो रहे बेजाकब्जा की शिकायतों पर गंभीरता से ध्यान देते हुए सभी बेजाकब्जा को ध्वस्त करते हुए यह सीधा संदेश दे रहे है की SECL की जमीन पर पर अतिक्रमण नहीं होने देंगे। आपको बता दें कुसमुंडा खदान विस्तार के दौरान अनेकों अधिग्रहित ग्रामों को बसाने के लिए एसईसीएल को बड़े पैमाने पर जमीन की आवश्यकता है ऐसे में जो भी जमीन रिक्त है उन पर प्रबंधन की पैनी नजर है। बात करें आज हटाए गए बेजा कब्जा की तो जब से कोरबा कुसमुंडा मार्ग पर फोरलेन का निर्माण किया जा रहा है तब से सड़क किनारे बची जमीनों पर आसपास के क्षेत्रों के लोगों की नजर बनी हुई है, जिसमें से कई लोग रातों-रात हरे भरे पेड़ पौधों को काटकर घर बना रहे हैं।कई जग साड़ी प्लास्टिक से घेरा बंदी कर जमीन पर अपना स्वामित्व प्रदर्शित कर रहे हैं। बीते दिन कुसमुंडा क्षेत्र अंतर्गत वैशाली नगर खमरिया ग्राम और पुराने बैंक कॉलोनी के बीच सब स्टेशन से लगे नर्सरी पर बेजा कब्जा धारियों की बाढ़ सी आ गई, लोग ररस्सी, साड़ी प्लास्टिक,लोहे के सीट इत्यादि से पूरे नर्सरी पर घेराबंदी कर धीरे-धीरे से घर बनाने लगे।जिसकी शिकायत कुसमुंडा जीएम संजय मिश्रा को मिली जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुए सभी बेजा कब्जा को आज रविवार की सुबह हटवा दिया गया। इस दौरान विभागीय तोडू दस्ता के साथ बेजा कब्जा धारियों के द्वारा बदसलूकी भी की गई, बावजूद इसके विभागीय कर्मचारी अपना काम करते रहे उन्होंने बेजाकब्जा धारियों को यह समझाइश भी दी कि आने वाले समय में अगर इस प्रकार की फिर से बेजा कब्जा किया जाता है तो उसे हटाने से नहीं हम नही चूकेंगे। जिस स्थान पर यार बेजा कब्जा किया जा रहा था वहां पर एसईसीएल का 11 केवी का विद्युत सबस्टेशन भी है , जिसके आसपास प्लास्टिक के त्रिपाल को ढंक कर घर बनाया जा रहा था, हाइटेंशन तारो की जरा सी चिंगारी से घरों पर आग लग जाती जिसमें लोगो के जान का भी खतरा बना हुआ था।

यह था वह बेजाकब्जा जिस पर SECL कुसमुंडा प्रबंधन ने कार्यवाही की...

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!