LATEST NEWSNATIONAL

सरकार ने जारी किया आज नई हेल्पलाईन नंबर,सहारा इंडिया में फंसे है यदि आपके पैसे तो यहाँ करें कॉल तभी पैसा मिलेगा

जो भी लोग सहारा इंडिया में निवेश किए हैं वह परेशान है कि उनका का पैसा कब मिलेगा हालांकि यह जिम्मेवारी अब सुप्रीम कोर्ट के पास है कि पैसा कब तक मिलेगी सेबी के अनुसार पैसा जल्द से जल्द लोगों को मिल जाएगी लेकिन कब तक मिलेगा निश्चित नहीं है ! ऐसे में भारत के लगभग हर राज में लोगों को पैसा फसा हुआ है ऐसे में राज्य सरकार के द्वारा हेल्पलाइन नंबर जारी कर उनकी समस्या को सुनकर पैसे दिलाने में मदद कर रही है !

सहारा ने प‍िछले द‍िनों अपनी स्‍थ‍ित‍ि साफ करते हुए कहा क‍ि उसने न‍िवेशकों का पैसा सेबी (SEBI) के पास जमा कर द‍िया है. लेक‍िन सेबी का कहना है क‍ि अब तक महज 81.70 करोड़ रुपये के लिए 53,642 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पास बुक से जुड़े 19,644 आवेदन म‍िले हैं.

शअब सहारा इंडिया के रिफंड को लेकर सरकार एक्शन में आ गई है. ऐसे लोग जिनके पैसे सहारा इंडिया में फंसे हैं उनके लिए सरकार के वित्त विभाग ने अब हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. इतना ही नहीं, अगर आपके पैसे सहारा के अलावा किसी भी दूसरे नॉन बैंकिंग कंपनियों और कॉर्पोरेटिव सोसाइटी में फंसे हैं तब भी आप इस नंबर पर शिकायत कर सकते हैं.

अगर आपके पैसे भी सहारा इंडिया में फंसे हैं तो आपके लिए काम की खबर है. सहारा इंडिया के रिफंड को लेकर एक्शन में आ गई है. ऐसे लोग जिनके पैसे सहारा इंडिया में फंसे हैं उनके लिए सरकार के वित्त विभाग ने अब हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. इतना ही नहीं, अगर आपके पैसे सहारा के अलावा किसी भी दूसरे नॉन बैंकिंग कंपनियों और कॉर्पोरेटिव सोसाइटी में फंसे हैं तब भी आप इस नंबर पर शिकायत कर सकते हैं..

एक्शन में आई सरकार :

दरअसल, झारखंड सरकार के वित्त विभाग ने नॉन बैंकिंग कंपनियों और कॉर्पोरेटिव सोसाइटी के खिलाफ एक्शन में आ गई है. सरकार ने इनके विरुद्ध शिकायत दर्ज करवाने के लिए एक पुलिस हेल्प लाइन नंबर 112 जारी किया है. इसके तहत सहारा इंडिया परिवार में फंसे पैसे के लिए भी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है. इसके बाद वित्त विभाग सीआईडी (आर्थिक अपराध शाखा, झारखंड) के साथ मिलकर इस शिकायत की जांच करेगा.

लोगों के फंसे हैं करोड़ों रुपये :

आपको बता दें कि सहारा इंडिया में लोगों के करोड़ों रुपये फंसे हैं. झारखंड के विधानसभा के बजट सत्र में विधायक नवीन जायसवाल ने नॉन बैंकिंग कंपनियों में झारखंड के लोगों का करीब 2500 करोड़ फंसे होने की बात बताई थी. इसके अंतर्गत लगभग 3 लाख लोग अपने पैसों को लेकर परेशान हैं, इसलिए सरकार को हेल्प लाइन नंबर जारी करना चाहिए, जिससे पता चलेगा कि किसका कितना पैसा फंसा है.

60 हजार लोग बेहाल :

सहारा में काम करने वाले 60 हजार कर्मचारियों की हालत खराब है और अब किसी भी समय ये लोग मौत के मुंह में जा सकते हैं. गांव देहात के लोगों की पूंजी इसमें फंसी है जिससे लोग बेहाल हैं. वित्त मंत्री ने बताया कि सहारा लिस्टेड कंपनी है जिसे सेबी कंट्रोल करता है. सेबी और सहारा प्रमुख को इसके लिए चिट्ठी भी भेज दी गई है. सहारा के खिलाफ जो भी शिकायत मिल रही है.

Related Articles

Back to top button