AAJTAK KI KHABARCHHATTISGARHCOAL INDIACrimeKORBA LATEST NEWSKORBA POLICEKUSMUNDA NEWSKUSMUNDA POLICEKUSMUNDA UPDATES

शातिर तरीके से कुसमुंडा खदान में डीजल चोरी का प्रयास, ठेके में लगी चार पहिया वाहनों की आड़ में हो रहा बड़ा खेल…

कोरबा -(ओम गवेल) – एक ओर बाहरी असामाजिक तत्वों से जहां आज कुसमुंडा खदान में चोरियां थम सी गई है वहीं अब अंदरूनी सुरक्षा तंत्र की आँखो मे धूल झोंक कर अंदर के ही कुछ लोग डीजल चोरी में लगे हुए हैं, हालांकि त्रिपुरा स्टेट राइफल ने इस चोरी को सफल नहीं होने दिया, इसलिए हम यंहा “प्रयास” शब्द का उपयोग कर रहे हैं, परंतु चोरी के इस घटनाक्रम से यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिस शातिर तरीके से चोरी का प्रयास किया गया है तो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि बीते कई माह से इस तरह का डीजल चोरी का खेल चल ही रहा होगा।

बात करें कुसमुंडा खदान में हुए डीजल चोरी के घटनाक्रम की तो विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार की दोपहर कुसमुंडा खदान अंदर बरकुटा फेस में पेट्रोलिंग के दौरान त्रिपुरा रायफल्स के जवानो ने देखा की वँहा खड़े 240 टन के डम्फर से कुछ लोग डीजल टैंक से पाइप लगाकर कैंपर वाहन के डीजल टैंक में डीजल चोरी कर डाल रहे हैं, त्रिपुरा के जवानो को आते देख चोर कैंपर वाहन को चालू कर भागने लगे, भागते भागते खदान के नीचे की ओर दलदली सड़क में केंपर वाहन फंस गया, वाहन में बैठे कुछ लोग वहां से भाग खड़े हुए, वही त्रिपुरा के जवानों ने दौड़ाकर कैंपर सवार एक लड़के को पकड़ लिया। खबर लिखे जाने तक कैंपर को दलदल से निकालने का प्रयास किया जा रहा था ।

सीआईएसएफ बेरीयर से वाहन पार करने दूसरे वाहनों के नम्बर का इस्तेमाल….

इन दिनों कुसमुंडा खदान में डीजल चोरी करने के लिए शातिर चोरों के द्वारा अन्य वाहनों के नंबरों का उपयोग किया जा रहा है, त्रिपुरा के जवानों ने जब कैंपर को पकड़ा तो उस कैंपर के नंबर का मिलान किया गया तो पता चला की कुसमुंडा खदान में ही एक निजी ठेका कंपनी की गाड़ी का यह नंबर है, उपरोक्त नंबर के गाड़ी में चढ़ने वाले अधिकारियों से संपर्क किया गया, तो पता चला कि उसी नंबर एक दूसरी गाड़ी में वे अधिकारी कहीं और थे, उस गाड़ी को भी त्रिपुरा वाले सामने में लाए दोनों गाड़ियों का मिलान किया गया, चेचिस नंबर से पता चला कि डीजल चोरी करने वाली गाड़ी का नंबर कुछ और है जिसे मिटा दिया गया है और खदान अंदर चलने वाली गाड़ियों के नंबरों का उपयोग वे इस तरह की डीजल चोरी में कर रहे हैं।

केंपर् वाहन में डीजल चोरी करने लगाए गए थे दो अलग से डीजल टंकी….

शातिर चोरों ने कैंपर वाहन में कंपनी फिटेड डीजल टंकी के अलावा दो अलग डीजल टंकी तकरीबन 80 – 80 लीटर क्षमता वाले टैंक वेल्डिंग कर फिट करवाए थे जिसमें बड़े वाहनों से डीजल चोरी कर भरा जाता था, इस प्रकार से एक कैंपर में बिना प्लास्टिक के जरकिन लादे कुल लगभग 200 लीटर डीजल की एक बार में चोरी कर ली जाती थी।

हर माह इस तरह हजारों लीटर डीजल की हो रही है चोरी…

बीते एक – दो वर्षो में हुई बड़ी चोरियों को अगर छोड़ दें तो हर माह ऐसे कैंपर एवं चार पहिया बोलेरो वाहनों से हजारों लीटर डीजल की चोरीयां हो रही है, जिसके आंकड़े SECL के संबंधित विभाग के पास प्रतिदिन दर्ज होते हैं, विभागीय अधिकारी नाम नहीं बताने की शर्त पर बताते हैं कि ऐसे दर्जनों निजी ठेका कंपनी के चार पहिया वाहन है जिनके चालकों के द्वारा शिफ्ट चेंज के दौरान बड़े भारी वाहनों से डीजल की चोरी की जाती है, कई बार अधिकारियों द्वारा उन्हें रंगे हाथ पकड़ा जाता है, ऐसे वाहनों को ब्लैक लिस्ट अथवा दोबारा नहीं करने की चेतावनी देकर छोड़ दिया जाता है।

Related Articles

Back to top button