AAJTAK KI KHABARCHHATTISGARHKORBA LATEST NEWSKORBA NAGAR NIGAMKORBA POLICEKUSMUNDA NEWSKUSMUNDA POLICEKUSMUNDA UPDATESSECL UPDATES

एसईसीएल कुसमुण्डा द्वारा भू-विस्थापितों और स्थानीय समस्याओं का निराकरण नहीं करने का आरोप,15 दिन में हल की दरकार अन्यथा 10 फरवरी को खदान बन्द करने पार्षद ने दिया अल्टीमेटम…

कोरबा – जिले में सबसे अधिक आंदोलन बीते 1 वर्ष में किसी खदान में देखने को मिला है तो वह है कुसमुंडा खदान,जहां पर आए दिन हड़ताल,धरना प्रदर्शन,खदान बंद जैसे आंदोलन देखने को मिल रहे हैं कहीं ना कहीं इन आंदोलनों के पीछे कुसमुंडा प्रबंधन के कुछ अधिकारियों की अपने जिम्मेदारी व जवाबदेही पूर्ण कार्य को लेकर लापरवाही,निष्क्रियता एवं उदासीनता ही है जिस वजह से प्रबंधन की स्थानीय लोगों के साथ सामंजस्य नहीं बैठ पा रहा है और लगातार आंदोलन हो रहे हैं जिससे कोयला उत्पादन में भी कुसमुंडा निरंतर पिछड़ रहा है |

बात करें एक और नए आंदोलन के सुगबुगाहट की तो नगर निगम वार्ड कमांक 62 एवं वार्ड से लगे आस-पास क्षेत्र एसईसीएल कुसमुण्डा क्षेत्र के द्वारा किये जा रहे कोयला खनन एवं परिवहन से प्रभावित है साथ ही वार्ड कमांक 62 में एसईसीएल कुसमुण्डा के द्वारा विस्थापित ग्राम-मनगाव, भेसमाखार एवं मोंगराभांठा के पुर्नवास ग्राम लक्ष्मण नगर एवं यमुना नगर स्थित है। जहां एसईसीएल प्रबंधन के उदासीन रवैये के कारण अनेकों समस्याएं उत्पन्न हो रही है जिसके निराकरण के लिए वार्ड 62 की पार्षद श्रीमती कौशिल्या बिंझवार ने कुसमुंडा प्रबन्धन को पत्र लिखकर जल्द से जल्द समस्याओ के त्वरित निराकरण की मांग की है। पत्र में उल्लेखित निम्नलिखित समस्याएँ –

01पुर्नवास ग्राम यमुना नगर (कुचेना) में भैसमाखार, मोगराभाठा और मनगाव को पुर्नवास प्रदान किया गया है जहां पर सड़क, नाली, बिजली, पानी, खेल मैदान, सार्वजनिक मंच, तालाब स्कूल आदि का प्रबंध ठीक से नहीं किया गया है, कुछ सुविधाओं को आधा अधूरा कराया गया है जो कि पर्याप्त नहीं है हाल ही में प्रबन्धन द्वारा यमुना नगर में मोगराभांठा के लिये देव स्थल एवं मुक्तिधाम का निर्माण कराया जा रहा है जिसके कारण भैसमाखार एवं मोगराभांठा के ग्रामिणों के बीच विवाद की स्थिति निर्मित हो रही है उक्त विवाद का निराकरण करने के लिए सर्व प्रथम यमुना नगर बसावट में किये जाने वाले निर्माण एवं प्रदत्त सुविधाओं का नक्शा (प्लान) बनाकर ग्राम वासियों से चर्चा कर कोई भी निर्माण कार्य प्रारंभ कराया जाये साथ ही भैसमाखार ग्राम के 25 परिवार जिनको अभी तक बसाहट नहीं दिया गया है उन परिवारों को यमुना नगर में प्लाट उपलब्ध कराकर कब्जा दिलाया जायें।

02. अधिग्रहित ग्राम-मनगाव, भैसमाखार एवं अन्य सभी अधिग्रहित ग्रामों के रोजगार के पुराने प्रकरणों को गंभीरता से सुलझाया जाये और नामांकित बेरोजगारों को शीघ्र रोजगार प्रदान किया जाये यदि नामांकित भू-विस्थापितों के पास पर्याप्त दस्तावेज उपलब्ध नहीं है तो राजस्व विभाग एवं जिला प्रशासन के सहयोग से शिविर लगाकर उनका दस्तावेज तैयार कराने में सहयोग किया जाना चाहिये।

03. खनन प्रभावित ग्राम चुनचुनी गेवरा बस्ती कबीर चौक से पानी टंकी कंवर मुहल्ला होते हुए गेवरा बस्ती चौक तक एवं आदर्श नगर कालोनी के गेट से सरस्वती शिशु मंदिर विद्यालय होते हुए गेवरा बस्ती चौक तक दो सड़कों एवं नाली निर्माण का एसईसीएल कुसमुण्डा के द्वारा आश्वासन दिये जाने के बाद भी आज तक निर्माण नहीं कराया गया है एसईसीएल कुसमुण्डा क्षेत्र के द्वारा समाजिक उत्तर दायित्व के तहत उक्त दोनो सड़को एवं नाली का निर्माण शीघ्र कराया जाये।

04. गेवरा बस्ती मुख्य मार्ग में ट्रकों के द्वारा कोयला परिवहन होने के कारण घुल एवं दुर्घटनाओं के गंभीर समस्या से पूरा क्षेत्र परेशान है वर्तमान में ग्राम-नराईबोध से मनगाव मैदान होते हुए टीपर रोड तक बाईपास बनाने का प्रस्ताव है किन्तु प्रस्तावित सड़क के मध्य में ही एसईसीएल गेवरा द्वारा सी.एच.पी (साईलो) का निर्माण किया जा रहा है जिस कारण बाईपास मार्ग बनाने का काम प्रभावित हो सकता है इस संबंध में एसईसीएल कुसमुण्डा क्षेत्र एवं एसईसीएल गेवरा के आपसी तालमेल से पुर्नवास ग्राम-मनगाव (लक्ष्मण नगर) के पुनः स्थापन एवं डी. एम. क्यू क्वाटर आदर्श नगर को हटाने की प्रक्रिया को गति प्रदान किया जाये जिससे एसईसीएल को बाईपास मार्ग एवं सी.एच.पी. (साईलों) के निर्माण के लिए पर्याप्त जमीन उपलब्ध हो सकेगा।

उपरोक्त कथन पत्र के माध्यम से सूचनार्थ प्रेषित कर मनगांव पार्षद श्रीमती कौशिल्या बिंझवार ने लिखित सभी समस्याओं का निराकरण 15 दिनों के भीतर करने निवेदन किया है साथ ही प्रबंधन को चेतावनी भी दी है कि उक्त कार्य नहीं होने पर दिनांक 10.02.2022 को कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए भू-विस्थापितों एवं क्षेत्र वासियों के साथ मिलकर एसईसीएल कुसमुण्डा क्षेत्र का उत्पादन कार्य बंद कर दिया जायेगा जिसकी सम्पूर्ण जवाबदारी एसईसीएल कुसमुण्डा प्रबंधन की होगी। मनगांव वार्ड पार्षद श्रीमती कौशिल्या बिंझवार द्वारा उठाये मुद्दे पर क्षेत्र के अन्य पार्षद अमरजीत सिंह,अजय प्रसाद,बसंत चंद्रा, शाहिद कुजूर और पवन गुप्ता का भी समर्थन है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!