CG NEWSCrimeRaipur News

छत्‍तीसगढ़: कोरोना संक्रमित 19 लोगों पर महामारी एक्ट का मामला दर्ज

रायपुर जिले में महामारी अधिनियम का उल्लंघन करने वालों पर कलेक्टर सौरभ कुमार ने सख्ती बरतने के कड़े निर्देश देते हुए पुलिस में आपराधिक प्रकरण दर्ज करने निर्देश दिए हैं। जिले में ऐसे 19 कोरोना पाजिटिव मरीजों की पहचान हुई है जिन्होंने गलत दूरभाष, पता देकर अथवा होम आइसोलेशन पोर्टल पर स्वयं को पंजीकृत न कर अपनी जानकारी छुपाई थी। साथ ही पाजिटिव होने के बाद भी अपने घर से बाहर निकलकर दूसरों के स्वास्थ्य और जीवन को खतरे में डाला है। इन लोगों से संपर्क करने के प्रयास के दौरान भी इन्होंने गंभीर लापरवाही बरतते हुए जानबूझकर अपने संबंध में सही जानकारी प्रशासन को नहीं दी, अब ऐसे लोगों पर एफआइआर होगी।

कलेेक्टर सौरभ कुमार के निर्देश के बाद शुक्रवार से रायपुर नगर निगम, बीरगांव सहित जिले के सभी अनुविभागों में सख्ती शुरू कर दी गई है। अब तक रायपुर जिले में ऐसे 19 व्यक्तियों की पहचान हुई है, जिन्होंने कोरोना पाजिटिव होने की जानकारी छुपाई है। होम आइसोलेशन के पोर्टल पर अपना पंजीयन भी जानबूझकर नहीं किया है। इसमें ऐसे मरीज भी शामिल है जिन्होंने होम आइसोलेशन के नियमों का उल्लंघन करते हुए घर के बाहर रहकर अन्य के जीवन एवं स्वास्थ्य को खतरे में डाला है।अब ऐसे गैर जिम्मेदार मरीजों के विरुद्ध संबंधित पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज होंगे।

सबसे अधिक रायपुर के नौ मरीजों पर केस
प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार रायपुर नगर निगम क्षेत्र के नौ, मंदिर हसौद के छह, आरंग के एक, अभनपुर के एक और तिल्दा के दो कोरोना संक्रमित मरीजों के खिलाफ संबंधित थानेे में एफआईआर दर्ज करने कार्रवाई की जा रही है।रायपुर जिला प्रशासन ने आम नागरिकों से अपील की गई है कि कोरोना के लक्षण महसूस होने पर अपनी जांच अवश्य कराएं, रिपोर्ट आने तक आइसोलेशन पर रहें।
संक्रमित होने पर यह करें काम
जांच रिपोर्ट पाजिटिव आने पर यदि कोरोना के सामान्य लक्षण हो तो होम आइसोलेशन पर रहें और तत्काल इसकी सूचना पोर्टल के लिंक http://homeisolation.cgcovid19.in या रायपुर जिला कंट्रोल रूम के फोन नंबर 07712445785, 7880100331, 7880100332 पर आवश्यक रूप से दें।
पोर्टल पर पंजीकृत सभी मरीजों को डाक्टर, दवा, आपात परिस्थितियों में जरूरी हर सहायता एवं चिकित्सालय में भर्ती कराने की संपूर्ण व्यवस्था जिला प्रशासन की टीम करती है। पोर्टल पर पंजीयन होने से होम आइसोलेशन पूर्ण होने पर प्रशासन द्वारा प्रमाण पत्र भी जारी किया जाता है। ऐसे मरीज जोे पॉजिटिव होने पर भी लापरवाही बरतते हुए अन्य के स्वास्थ्य एवं जीवन को खतरे में डालते हैं तो उन सभी पर महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज कराई जाएगी।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!