National

काम की बात: ट्रेन से सफर करते हैं तो जान लीजिए लगेज ले जाने के नियम, कहीं बाद में न हो जाए दिक्कत

आज के समय में ट्रेन में सफर करना सबसे सुविधाजनक और आरामदायक लगता है। आमतौर पर दूर के सफर में बस या फिर फ्लाइट्स में लोगों को थोड़ी-बहुत दिक्कत जरूर महसूस होती है, लेकिन ट्रेन लंबी दूरी की यात्रा के लिए सबसे बेहतर विकल्प है। यही वजह है कि भारत में हर दिन लाखों की संख्या में लोग ट्रेनों में सफर करते हैं। जाहिर है अगर आप कहीं दूर का सफर करेंगे तो आपके साथ अच्छी खासी मात्रा में सामान भी होगा ही। बहुत सारे लोग तो ऐसे भी होते हैं, जो जरूरत से ज्यादा ही सामान लेकर ट्रेन में चढ़ जाते हैं और फिर उसे रखने के लिए जगह ढूंढने लगते हैं। ऐसे में दूसरे यात्रियों की सीट के नीचे भी वो सामान घुसा देते हैं, जिसकी वजह से अन्य यात्रियों को सामान रखने में दिक्कत होने लगती है। इस परेशानी से बचने के लिए जरूरी है कि आपको ट्रेन में लगेज ले जाने के नियम के बारे में पता हो।

दरअसल, भारतीय रेलवे द्वारा अलग-अलग क्लास के टिकटों पर सामान ले जाने की सीमा अलग-अलग तय की गई है। सेकेंड क्लास में सफर करने वाले यात्रियों को 35 किलोग्राम तक सामान मुफ्त में ले जाने की अनुमति होती है, जबकि एक्स्ट्रा चार्ज के साथ अधिकतम 70 किलोग्राम तक सामान कैरी किया जा सकता है।

भारतीय रेलवे के लगेज नियमों के मुताबिक, स्लीपर क्लास में यात्रियों को 40 किलोग्राम तक सामान बिना किसी एक्स्ट्रा चार्ज के ले जाने की अनुमति होती है, जबकि एक्स्ट्रा चार्ज के साथ अधिकतम 80 किलोग्राम तक सामान लेकर जाया जा सकता है।

वहीं, एसी टू टीयर के यात्री अपने साथ 50 किलोग्राम तक का सामान मुफ्त में लेकर जा सकते हैं, जबकि चार्ज के साथ अधिकतम 100 किलोग्राम तक का सामान ले जाने की अनुमति होती है। इसके अलावा अगर एसी फर्स्ट क्लास की अगर बात करें तो 70 किलोग्राम तक सामान मुफ्त में ले जा सकते हैं, जबकि एक्स्ट्रा चार्ज के साथ यह सीमा 150 किलोग्राम तक हो जाती है।

Tags

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!