AAJTAK KI KHABARCHHATTISGARHKORBA LATEST NEWS

कोरबा – वन मंडल ने बाइक रैली निकाल कर अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस पर प्रकृति को सुरक्षित रखने दिया सुंदर संदेश…….

कोरबा ब्यूरो

कोरबा – आज दिनांक 22 मई 2021 को कोरबा वन मंडल में अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस पर जागरूकता रैली का आयोजन वन मंडल अधिकारी श्रीमती प्रियंका पांडे के नेतृत्व में किया गया।
जैव विविधता के महत्व को बताने और बचाने के लिए 1942 से प्रारंभ किया गया था 22 मई को पूरे विश्व भर में एक साथ अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस मनाया जाता रहा है । कोरना काल में जैव विविधता के महत्व को और अधिक बल मिला है छत्तीसगढ़ के लिए कोरबा अपने जैव विविधता के लिए जाना जाता रहा है । कोरबा जिले में दुर्लभ प्रजाति के वृक्षों औषधि पौधों के अतिरिक्त सरीसृप जंगली जीव जंतु पक्षियों का आवास है। कोरबा जिला असल अर्थों में जैव विविधता का हब है । जैव विविधता दिवस के मौके पर जागरूकता हेतु रैली का आयोजन किया गया था, जिसमें आम जनता से आह्वान किया गया कि अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं एवं वन्य प्राणियों के संरक्षण में सहयोग करें । 3 दिन पहले बाज का बच्चा जो अपने घोंसले से गिर जाने के कारण चोटिल हो गया था, जिसका इलाज कर उसे जंगल छोड़ा गया । वन मंडल द्वारा आज शहरों में 4 सांपों को कोरबा वन मंडल और सर्पमित्र दल द्वारा रेस्कयू किया गया था, जिन्हें उनके उचित निवास स्थान पर छोड़ा गया। इन 4 सांपो में एक अहिराज, दूसरा अजगर था और अन्य धमना व बिल्ली सांप है। कोरबा वन मंडल और सर्पमित्र दल जितेंद्र सारथी के द्वारा पिछले कुछ महीनों में बड़ी संख्या में सांपों को बचाने में सफल रहे हैं ।

वन मंडल अधिकारी श्रीमती प्रियंका पांडे के द्वारा सर्प मित्र दल को सर्प रेस्क्यू हेतु उपकरण दिया गया है । वन मंडल कोरबा के प्रयासों का ही परिणाम है कि लोगों में सांपों को लेकर जागरूकता आयी है और सभी लोग सांपों को ना मार कर रेस्क्यू हेतु रेस्क्यू टीम को बुला रहे हैं। मई महीने में कनकी में प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरू हो गया है । कोरबा वन मंडल में जैव विविधता के पंजी का निर्माण किया जा रहा है जिसमें भविष्य में किसी कंपनी द्वारा कोरबा के जैव विविधता का उपयोग कर लाभ अर्जित किया जाएगा , वह लाभ का एक हिस्सा संबधित जैवविविधता समिति को प्रदान करने की आवश्यक शर्त है।
उपमंडल अधिकारी आशीष खेलवार ने कहा कि पिछले वर्ष गुलमोहर के वृक्षों में बड़ी संख्या में कीड़ों का प्रकोप हुआ, जिसने गुलमोहर के सभी पत्तों को खा लिया इन कीटो के प्राकृतिक भक्षक कीटों और पक्षियों की संख्या में कमी आना मुख्य कारण है । जैव विविधता को बचाने के लिए समुचित प्रयास नहीं किए गए तो आने वाले समय में इस प्रकार की और भी घटनाएं देखने को मिलेंगी । इसलिए सभी को अपने स्तर में प्रयास करना चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी के लिए बेहतर भविष्य दे सकें। वन मंडल अधिकारी कोरबा श्रीमती प्रियंका पांडे द्वारा सभी से अनुरोध किया गया कि सभी अधिक से अधिक पेड़ लगाएं पक्षियों के लिए भोजन और आवास दें सांपों को मारे नहीं बल्कि रेस्कयू दल को बुलाएं, और कहीं भी जंगली जीव जंतु से संबंधित अपराध होता है तो उसकी सूचना दें। जैव विविधता तंत्र से कोई भी पशु समाप्त होता है तो पूरी श्रृंखला टूट जाती है और उसका दुष्परिणाम हमें भुगतना पड़ता है। जीवो की रक्षा के लिए हर एक व्यक्ति की अहम भूमिका है। रसायनों का कम से कम उपयोग करें, पॉलीथिन का उपयोग ना करें बिजली की खपत मितव्ययिता से करें ,सौर ऊर्जा का उपयोग करें, सार्वजनिक वाहनों का उपयोग करें, हमारी सभी समस्या का हल मां प्रकृति के पास है, इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र ने भी संदेश दिया है कि जब जैव विविधता की समस्या है तो मानवता की समस्या है। जैविक विविधता संसाधन वे स्तम्भ है जिन पर हम सभ्यताओं का निर्माण करते हैं लेकिन जैव विविधता के नुकसान से हमारे स्वास्थ्य सहित सभी को खतरा है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker