CG NEWSChhattisgarh

धान खरीदी समितियों का भुगतान नहीं कर पा रही प्रदेश सरकार – नोवेल वर्मा

छत्तीसगढ़/सक्ती: छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर 20 से धान खरीदी प्रारंभ होनी है, वहीं 27 नवंबर 20 से केंद्रों में टोकन की प्रक्रिया प्रारंभ करने के लिए समस्त समितियों और विभाग को निर्देश किया जा चुका है।धान खरीदी को लेकर पूर्व मंत्री व राकांपा प्रदेश अध्यक्ष नोवेल कुमार वर्मा ने प्रदेश सरकार पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि जांजगीर जिले में गत वर्ष खरीदी की गई धान केन्द्र समितियों को संचालन हेतु खरीदी किए धान की कीमत का 2 प्रतिशत राशि दिया जाता है वह नहीं मिलने से समिति के सदस्य काफी परेसान है वहीं जो लेबर धान खरीदी केंद्रों में काम किये है उन्हें अब तक उनका मेहनताना भी नहीं दिया गया है।

श्री वर्मा ने आगे कहा कि सरकारी खजाना तो पूरी तरह से खाली हो गया है, वर्तमान सत्र में धान खरीदी केंद्रों में व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए समितियों को सरकार द्वारा एक रुपया भी नहीं दिया गया है। वहीं कई केंद्रों में बारदाने तो भेज दिए गए है लेकिन अब तक बारदाने के देख रेख करने चौकीदार की नियुक्ति भी नहीं कि गई है, साथ ही धान खरीदी केंद्रों को कांटे तार की मदद से घेराव किया जाता है उसके लिए भी समितियों के पास फूटी कौड़ी तक नहीं बची है। नोवेल कुमार वर्मा ने प्रदेश की भूपेश सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सरकारी खजाने को पूरी तरह से खाली कर अब भूपेश सरकार गरीब मजदूरों का पैसा खा कर बैठ गई है। जो मजदूर दिन रात धान खरीदी केंद्रों में पसीना बहाए थे उन्हें अब तक उनका मेहनताना नहीं मिला, और फिर से अव्यवस्थाओं के बीच धान खरीदी करने के लिए तिथि निर्धारित कर भूपेश बघेल किसानों के समय व भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

नोवेल वर्मा ने आगे कहा कि मेरे द्वारा सोंठी उपार्जन समिति का निरीक्षण किया गया, सोंठी उपार्जन समिति का धान खरीदी केंद्र टेमर के मैदान में खरीदी की जाती है। नोवेल वर्मा के निरीक्षण दौरान समिति अध्यक्ष चैतेश्वर पटेल, गुरुदेव चौधरी सरपंच, चंद्रिका पटेल उपसरपंच, सत्यप्रकाश महंत, लोकनाथ पटेल, रेवतीनंदन पटेल, रामेश्वर गबेल समिति के सदस्य उपस्थित थे।

Show More

Related Articles

Back to top button