ChhattisgarhKORBA LATEST NEWSKORBA LOCAL NEWS

कुसमुण्डा : भारी ब्लास्टिंग से फिर दहल रहा क्षेत्र.. थाने का गिरा छज्जा.. घरो के फट रहे दीवार.. डरे सहमे लोगो में प्रबन्धन के खिलाफ आक्रोश.. क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों ने ब्लास्टिंग को लेकर कही यह बातें…

छत्तीसगढ़/कोरबा : कुसमुण्डा खदान में आये दिन भारी ब्लास्टिंग हो रही है जिस का क्षेत्र में साफ असर देखने को मिल रहा है, कहीं छतों प्लास्टर उखड़ कर गिर रहै तो कहीं दीवारों में गहरी दरारें पड़ रही है, बीते दिन इन ब्लास्टिंग की वजह से कुसमुण्डा थाना भवन की छज्जा तक लटक गई है। इतनी भारी ब्लास्टिंग हो रही है कि पूरी की पूरी धरती हिल जा रही है, आलम यह है कि ब्लास्टिंग से क्षेत्र के लोगो मे भारी डर का माहौल है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने कई बार कुसमुण्डा प्रबन्धन से मिल कर हेवी ब्लास्टिंग नही करने का निवेदन भी किया है, बावजूद इसके आवेदन निवेदन की अनदेखी की जा रही है।

कुसमुण्डा खदान से लगे क्षेत्रो के जनप्रतिनिधियों ने इस ब्लास्टिंग पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है…जाने किसने क्या कहा…..

कोरबा नगर निगम के MIC सदस्य व वार्ड 59 विकासनगर पार्षद अमरजीत सिंह ने कुसमुण्डा प्रबन्धन द्वारा किये जा रहे हेवी ब्लास्टिंग को लेकर चिंता जताई है, उनका कहना है कि जिस तरह से खदान में इतनी हेवी ब्लास्टिंग हो रही है,मानो भूकंप आया गया हो,क्षेत्र के लोगो मे ब्लास्टिंग को लेकर काफी भय का माहौल है, प्रबन्धन से लागातर इस विषय पर बात हो रही है, झूठा आस्वाशन देकर रोज हेवी ब्लास्टिंग की जा रही है, साथी पार्षदो से बात हुई है जल्द ही जमीनी स्तर पर कुसमुण्डा प्रबन्धन के खिलाफ आंदोलन किया जावेगा।

वार्ड 61 आदर्श नगर पार्षद शाहिद कुजूर ने कहा कि “आज से पूर्व भी कुसमुण्डा खदान से कोयले का भारी उत्पादन होता रँहा है, 50 मिलियन टन कोल उत्पादन लक्ष्य को पूरा किया गया, तब तो इतनी हेवी ब्लास्टिंग की जरूरत नही पड़ी आज ऐसा क्या हो रहा जो इतनी भारी हेवी ब्लास्टिंग की जा रही है, कुसमुण्डा प्रबन्धन की मनमानी समझ से परे है। जल्द ही आंदोलन किया जावेगा।

वार्ड 60 गेवरबस्ती के पार्षद अजय प्रसाद ने कहा कि कुसमुण्डा प्रबन्धन की इंसानियत मर चुकी है,अनेको बार खदान में ब्लास्टिंग कम करने को कहा गया पर इनके कानो में जु तक नही रेंग रही, हेवी ब्लास्टिंग से घर मकान का नुकसान तो ही रँहा है किसी दिन किसी की जान भी जा सकती है, जिसका पूर्ण जिम्मेदार कुसमुण्डा प्रबन्धन होगा । प्रबन्धन द्वारा कराए जा रहे हेवी ब्लास्टिंग के खिलाफ जल्द ही आमजनों के साथ जमीनी लड़ाई लड़ी जावेगी।

क्षेत्र के भाजपा नेता व पूर्व विधायक प्रतिनिधि सन्तोष राठौर ने सख्त लहजो में कहा कि उन्होंने क्षेत्र के लोगो के साथ सीधे मुख्यमहाप्रबन्धक से मिलकर ब्लास्टिंग से हो रहे भारी नुकसान की जानकरी मुख्यमहाप्रबन्धक को देते हुए ब्लास्टिंग की तीव्रता को धीरे करने का अनुरोध किया था जिस पर मुख्यमहाप्रबन्धक द्वारा आस्वाशन भी दिया गया था बावजूद इसके ब्लास्टिंग में और तेजी आई है, क्षेत्र में मकानों को भारी नुकसान हो रहा है,अब मुख्यमहाप्रबन्धक के खिलाफ एफआईआर करते हुए आंदोलन किया जावेगा।

क्षेत्र की माँ शारदा भुविस्थापित समिति ने भी इस ब्लास्टिंग का कड़ा विरोध जताया है, समिति के पदाधिकारी रवि पटेल, विनोद पटेल व वाई एस कुलकर्णी का कहना है कि आये दिन हो रहे ब्लास्टिंग से सबसे अधिक प्रभावित हम ग्रामवासी लोग है क्योंकि खदान के मुहाने पर हमारा घर है, हमे न मुवावजा दिया जा रहा न ही अन्यत्र बसावट, खदान किनारे मरने को छोड़ दिया गया है, अब भुविस्थापित समिति भी सभी के साथ आंदोलन करेगी।

नवनियुक्त एल्डरमेन व जिला कांग्रेसी नेत्री गीता गवेल ने भी अपने मुहल्ले की घरों की जर्जर दीवार की तस्वीर साझा करते हुए बताया कि कुसमुण्डा प्रबन्धन जिस तरह से भारी ब्लास्टिंग कर रही है लगता है कि उसे अपने क्षेत्रवासियो के जान-माल के नुकसान की किसी भी प्रकार की चिंता नही है, क्षेत्र के निजी घरो से लेकर विभागीय आवासो की स्थित बेहद जर्जर व निराशाजनक है, कुसमुण्डा प्रबन्धन को खदान में ब्लास्टिंग कम करने के साथ साथ ब्लास्टिंग से जर्जर हो रहे मकानों की क्षतिपूर्ति भी देनी चाहिए, अगर ऐसा नही करते है तो हम क्षेत्र की महिलाएं जल्द ही मुख्यमहाप्रबन्धक कार्यालय के सामने धरने पर बैठेंगे…..

कोरबा नगर निगम के उपसभापति व वार्ड 58 ईमली छापर के पार्षद बसंत चन्द्रा ने बताया कि उनके वार्ड में अधिकांश कच्चे मकान है जो ब्लास्टिंग की वजह से काफी जर्जर हो चुके है, दीवारें ऐसी फटी है कि आरपार साफ साफ देख लो, ब्लास्टिंग होने पर रोज दो चार खप्पर लोगो के ऊपर गिर रहे हैं, अब कुसमुण्डा प्रबन्धन से आवदेन निवेदन का समय निकल चुका है, बड़ी आंदोलन ही इसका उपाय है।

वार्ड 62 मनगांव पार्षद पति विन्यविन्दराज ने भी ब्लास्टिंग पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ब्लास्टिंग की वजह से सभी घरो के बोर से पानी नीचे उतर चुका है, जर्जर घरो के साथ साथ अब खाने पीने के लिए पानी की भी काफी दिक्कत हो रही है, जब भी ब्लास्टिंग होती है लोग डर व सहम जाते है ऐसा लगता है कि पूरी की पूरी मकान ही गिर पड़ेगी।

वाकई कुसमुण्डा प्रबन्धन द्वारा जिस तरह की ब्लास्टिंग की जा रही है क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व आमजनों का गुस्सा जायज है,अगर जल्द ही ब्लास्टिंग की तीव्रता को कम नही किया गया तो कुसमुण्डा प्रबन्धन को क्षेत्रवासियो का भारी विरोध झेलना पड़ेगा।

कुसमुण्डा से ओम गभेल की रिपोर्ट

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button