Chhattisgarh

कोरबा : अशासकीय विद्यालयों के शैक्षणिक स्तर को समेकित रूप से आगे बढ़ाने एवं समस्त अशासकीय विद्यालयों को एकीकृत करने हेतु जिले में अशासकीय विद्यालय समिति का किया गया गठन..

रिपोर्ट : भागवत दीवान

छत्तीसगढ़/कोरबा : जिले में अशासकीय विद्यालय समिति का गठन किया गया है। कोरबा जिले के समस्त अशासकीय विद्यालयों के शैक्षणिक स्तर को समेकित रूप से आगे बढ़ाने एवं समस्त अशासकीय विद्यालयों को एकीकृत करने हेतु कोरबा में अशासकीय विद्यालय समिति का गठन किया गया है। एसोसिएशन का पंजीयन रजिस्टार फॉर्म एवं संस्थाएं छत्तीसगढ़ शासन द्वारा किया गया है।

प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन कोरबा के पदाधिकारियों का चयन सर्वसम्मति से किया गया। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन कोरबा के नवनिर्वाचित अध्यक्ष श्री ए पी सिंह प्राचार्य डीडीएम पब्लिक स्कूल कोरबा एसोसिएशन के सचिव डॉ डीके आनंद मैनेजर सेंट जेवियर पब्लिक स्कूल रामपुर कोरबा कोषाध्यक्ष श्री डी एस राव प्राचार्य न्यू एरा प्रोगेसिव स्कूल रामपुर कोरबा उपाध्यक्ष सुश्री बोरनाली घोष प्राचार्य पब्लिक स्कूल कोरबा समन्वयक फादर संजीव खखा प्राचार्य सैंट विंसेंट पल्लोटी स्कूल कोरबा सह कोषाध्यक्ष सिस्टर जेस्नी मेरी प्राचार्य निर्मला इंग्लिश हाई सेकेंडरी स्कूल रिजदी कोरबा सहसचिव श्रीमती स्मिता नायर प्राचार्य जैन पब्लिक स्कूल कोरबा सदस्य के रुप में श्री कैलाश पवार प्राचार्य डीपीएस बाल्को सदस्य सिस्टम निम्मी फ्रांसिस प्राचार्य सेंट फ्रांसिस इंग्लिश मीडियम स्कूल कोरबा सदस्य डॉ विवेक रंजन महतो धनीराम मेमोरियल पब्लिक स्कूल बरपाली कोरबा को नियुक्त किए गए हैं साथ ही शहर के अनेक विद्यालयों के प्राचार्य सदस्य के रूप में चुने गए हैं । इस समिति के गठन का मूल उद्देश्य अशासकीय विद्यालयों के शैक्षणिक स्तर को आगे बढ़ाने के साथ-साथ अंतर विद्यालय सांस्कृतिक खेलकूद तथा विभिन्न कार्यक्रम के माध्यम से एक-दूसरे को सहयोग देना इनकी मूल प्राथमिकता है।

कोरबा जिले के समस्त अशासकीय विद्यालयों में किसी प्रकार की शैक्षणिक प्रशासनिक एवं सामाजिक समस्याओं के उत्पन्न होने पर उनके निराकरण का कार्य समिति के कार्य क्षेत्र के अंतर्गत निश्चय किया गया है। इस एसोसिएशन के द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि माननीय उच्च न्यायालय बिलासपुर के निर्देशानुसार सत्र 2020-2021 में विभिन्न अशासकीय विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र छात्राओं के अभिभावकों के द्वारा ट्यूशन फीस संबंधित अपने-अपने विद्यालयों में जमा किए जाए , ताकि विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक शिक्षिकाएं एवं कर्मचारियों को समय पर वेतन मिल सके। इस कोरोना महामारी के कारण यदि कोई अभिभावक आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हो तो वह अपने संबंधित विद्यालयों में जाकर प्राचार्य से मिलकर अपनी वित्तीय स्थिति के साक्ष्य के साथ आवेदन प्रस्तुत करें ताकि विद्यालय संबंधित अभिभावक के द्वारा दिए गए दस्तावेजों को जांच कमेटी को भेजकर जांच के उपरांत उपयुक्त पाए जाने पर उन अभिभावकों फीस में रियायत प्रदान कर सकेंगे। जिले के सभी स्कूलों में अभिभावकों से प्राप्त आवेदनों के आधार पर सैकड़ों अभिभावकों को ट्यूशन फीस में रियायत दिया जा चुका है, और जो भी ऐसे अभिभावकों के द्वारा आवेदन प्रस्तुत करेंगे उनके परीक्षण के उपरांत उपयुक्त अविभाभक को रियायत दिया जाएगा।

एसोशिएशन ने पालकों अनुरोध किया कि ऐसे अफवाहों पर ध्यान ना दें, बल्कि अपने बच्चों के शैक्षणिक गतिविधियों पर ध्यान दें। यदि कोई भी अभिभावक समूह में किसी भी अशासकीय विद्यालयों में जाकर विद्यालय के सौहार्दपूर्ण वातावरण में व्यवधान डालने का प्रयास करेंगे तो प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन कोरबा एवं अशासकीय विद्यालयों इस तरह की गतिविधियों के विरोध में ऑनलाइन क्लासेस एवं शैक्षणिक कार्य स्थगित करने हेतु बाध्य होंगें।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!