Chhattisgarh

75 दिनों तक चलने वाले विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा की रस्म डोली विदाई की गई.

संवाददाता : विजय पचौरी

छत्तीसगढ़/जगदलपुर : बस्तर दशहरा पर्व के अंतिम पूजा विधान के तहत आज बस्तर दशहरा पर्व में शिरकत करने पहुंची माता मावली सहित माई दंतेश्वरी की डोली एवं छत्र की विदाई की गई इसके तहत स्थानीय राज महल स्थित माई दंतेश्वरी मंदिर से जुलूस स्वरूप राज परिवार के बस्तर महाराजा कमल चंद भंजदेव में डोली को अपने कंधे पर लेकर जिया डेरा तक पहुंचाया जहां पूजा विधान के बाद डोली को वाहन में दंतेवाड़ा के लिए रवाना किया गया जिस प्रकार से पिता अपनी बेटी को विदा करता है उसी प्रकार बस्तर के लोगों ने भी नम आंखों से माता मावली की डोली को विदा किया गया। इसे देखने के लिए हजारों श्रद्धालु पहुंचे हुए थे। माता की डोली को पुलिस विभाग के जवानों द्वारा सलामी दी गई।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!