Chhattisgarh

कोरबा के विद्यार्थियों ने रचा इतिहास.. पहली बार जिले से एक साथ 37 विद्यार्थियों ने क्वालीफाई की नीट की परीक्षा.. अब कर सकेंगे डाक्टरी की पढ़ाई.

छत्तीसगढ़/कोरबा : कल घोषित हुए नीट परीक्षा के परिणामों ने कोरबा जिले को पूरे प्रदेश में एक अलग पहचान दिला दी है । जिले से पहली बार एक साथ एक ही सत्र में डाक्टरी की पढ़ाई करने 37 विद्यार्थियों ने नीट परीक्षा क्वालीफाई कर ली है। इसमें से 28 जिले मे संचालित प्रतियोगी परीक्षा के लिए विशेष कोचिंग योजना के तहत तैयारी करने वाले दूर ग्रामीण इलाक़ों के गरीब परिवारों के विद्यार्थी है। कोरबा जिले में संचालित विशेष कोचिंग योजना अग्रगमन, सरकारी योजना से जनसमुदाय की बेहतरी की एक और मिसाल बन गई है। इस योजना के तहत विशेष प्रशिक्षण और तैयारी को बदौलत कोरबा जिले में गरीब और ग्रामीण अंचलों के परिवारों के 28 क्वालीफाई हुए है, वही शासकीय रूप से चल रहे एकलव्य आवासीय विध्यालय की भी एक छात्रा ने नीट की परीक्षा मे सफलता पाई है।

जिले की कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के नेतृत्व मे इस योजना के संचालन की पूरी ज़िम्मेदारी जिला शिक्षा अधिकारी श्री सतीश पांडेय पर है और श्री पांडे की रणनीति तथा मार्गदर्शन से ही कोरबा जिले के विद्यार्थी इस अखिल भारतीय स्तर की परीक्षा को पहली बार इतनी अधिक संख्या में एक साथ क्वालीफाई करने में सफल हुए है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल भी इन परिणामों से खासी उत्साहित है । उन्होंने सभी सफल विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाये और बधाई दी है। साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी श्री पांडेय के योगदान और मोटीवेसन की तारिफ़ की है ।

जिला शिक्षा अधिकारी श्री पांडे ने बताया कि जिला खनिज न्यास मद से कोरबा जिले में अग्रगमन विशेष कोचिंग सेंटर संचालित है जो कि जिले के शासकीय विद्यालयों के होनहार बच्चों को जेईई और नीट की परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए विशेष कोचिंग संचालित करता है। इस वर्ष नीट की परीक्षा में 33 में से 28 विद्यार्थियों को योग्यता हासिल हुई है अर्थात इस वर्ष अग्रगमन कोचिंग सेंटर के 85% विद्यार्थियों ने नीट की परीक्षा में सफलता हासिल की । इसी तरह इस वर्ष जेईई परीक्षा में भी 25 में से 15 विद्यार्थी सफल हुए अग्रगमन कोचिंग सेंटर के 60 प्रतिशत विद्यार्थियों ने सफलता प्राप्त की ।

ज्ञातव्य है कि कोरबा जिले में इस कोचिंग संस्थान के लिए जेईई के 32 और नीट के 33 इस प्रकार कुल 65 विद्यार्थियों को चयनित किया जाता है । चयन की प्रक्रिया में जिले के प्रत्येक स्कूल से हाई स्कूल परीक्षा दसवीं के 80% और उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को जिले स्तर की एक चयन परीक्षा में आमंत्रित किया जाता है । उस परीक्षा से कुल 65 बच्चों का चयन अग्रगमन कोचिंग की कक्षा ग्यारहवीं के लिए किया जाता है । दो वर्ष तक लगातार इस आवासीय विद्यालय में विद्यार्थियों को जेईई और नीट के लिए विशेषज्ञों के द्वारा कोचिंग दी जाती है । इस कोचिंग सेंटर में साप्ताहिक टेस्ट , विद्यार्थियों की सभी विषयों की पढ़ाई के साथ पृथक से 2 घंटे अलग से कक्षा भी ली जाती है जिसमें उनकी विषयगत समस्याओं का निवारण किया जाता है ।

इतनी संख्या मे एक साथ छात्र – छात्रों का नीट परीक्षा क्वालीफाई करना दूसरे विद्यार्थियों के लिए बनेगा प्रेरणा- कलेक्टर श्रीमती कौशल

कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने जिले से एक साथ 37 विद्यार्थियों का नीट जैसी अखिल भारतीय स्तर की परीक्षा में क्वालीफाई करने को दूसरे विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा स्त्रो्त बताया है । उन्होंने सभी सफल विद्यार्थियों को बधाई और शुभकामना देते हुए कहा कि यह सफलता जिले में पढ़ाई विशेष कर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी ले लिए अच्छा माहौल तैयार करेगी। अब दूर दराज के गरीब ग्रामीण अंचलो के बच्चों में भी पढ़ाई लिखाई के प्रति रुझान बढ़ेगा। वे भी डाक्टर, इंजीनियर, कलेक्टर-एसपी बनने के लिए प्रयास करेंगे। श्रीमती कौशल ने कहा कि मेधावी बच्चों के सपनो को पूरा करने के इस प्रयास मे सरकार और प्रशासन हर सम्भव सहायता करेगा। उन्होंने छतीसगढ़ सरकार के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में चल रही अग्रगमन विशेष कोचिंग योजना को ग्रामीण इलाक़ों के गरीब मेधावी बच्चों केे सपनो को पंख देने वाली योजना बताया और इसे आगे भी जारी रखने की बात कही।

यही विकास है- डी ई ओ श्री पांडे-

सफल विद्यार्थियों को बधाई देते हुए जिला शिक्षा अधिकारी श्री सतीश पाँडे ने कहा की जन सामान्य को शासकीय योजना से लाभान्वित कर उनका जीवन स्तर ऊँचा करना ही विकास है, और यही योजना की सफलता भी है। श्री पांडे स्वयं एक विख्यात शिक्षाविद् और मोटिवेशनल वक्ता है और उनके मार्गदर्शन से विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में अकादमिक के साथ -साथ मानसिक तौर पर भी काफ़ी सहायता मिली है। श्री पांडे ने आगे भी योजना के सफल संचालन की बात कहते हुए जिले में पढ़ाई का स्तर बेहतर करने सभी ज़रूरी कदम उठाने पर ज़ोर दिया है।

अग्रगमन विशेष कोचिंग से क्वालीफाई करने वाले विद्यार्थियों की सूची

अनुसूचित जनजाति वर्ग –

कुमारी रंजीता, गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल बलगीखार, कुमारी श्वेता , गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल सिंघिया, उजागर सिंह, गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल करतला, भावेश सिंह गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कटघोरा, देव कुमारी गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल भैसमा, अंजलि उइके गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कोरबा, ऋषिता गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल अजगर बहार, त्रिवेणी राठिया गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल नवा पारा, हेमंत कवर गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल सोहागपुर, दिव्या गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल अजगर बहार, मनीष कुमार गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल गिधौरी, बहारन सिंह गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल अजगर बहार।

अनुसूचित जाति वर्ग

दामिनी भार्गव गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कोरबा, अभिषेक कुमार सारथी गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कनकी, कुमारी सुमन गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल तिलकेजा।

अन्य पिछड़ा वर्ग

दुर्गेश्वरी कश्यप गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल सरगबुंदिया, मिर्जा आशिफ बेग,गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल भिलाईबाज़ार, राहुल पटेल गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल तुमान, शैलेन्द्र कुमार गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल भिलाई बाजार दीपक कुमार गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल करतला, ज्योति साहू गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कोरबा, धारिता पटेल गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कुदुरमाल संध्या पटेल गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कुदुर माल नोवेन्द्र पटेल गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल नोनबिर्रा, अजय पटेल गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल तुमान, ज्योति कश्यप गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल सरगबुंदिया।

ईडब्लूएस श्रेणी सोनम इंग्ले गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल गुरसिया, अरबाज खान गवर्मेंट हायर सेकेंडरी स्कूल कोरबा।

एकलव्य परिसर छुरी अनुसूचित जनजाति वर्ग कुमारी श्रद्धा सिंह

अन्य निजी विद्यालयों के नीट क्वालीफाई करने वाले जिले के विद्यार्थी- सेंट जेवियर स्कूल ईशा शुक्ला, श्रेया राठौर, आस्था अग्रवाल, उज्जवल सिंह, चुनल डहरिया, सृष्टि विश्वकर्मा, ऋषि कुर्मी एवं पाली निवासी विकास सोनी

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!