National

चीन ने बनाया कोरोना का टीका.. जानिए कितनी है इसकी कीमत.

जिस कोरोना के कहर से दुनिया कराह रही है। उसका टीमा चीन ने बना लिया है। पूर्वी चीन में यह टीका 60 डाॅलर यानि 4400 रूपए में आसानी से मिल रहा है। बीजिंग की सिनोवैक बाॅयोटेक कंपनी ने इसको सिनोवैक नाम से बाजार में उतारा है। यह टीका पूर्वी चीन के झेजियांग प्रांत के जियाशिंग शहर में स्वास्थ्यकर्मियों, महामारी की रोकथाम में जुटे लोगों, जनसेवा में जुटे लोगों और पोर्ट इस्पेक्टर्स को दिया जा रहा है।

चीन में इसकी कितनी होगी कीमत

चीन की सरकारी मीडिया की खबरों के मुताबिक, प्रायोगिक टीका बाद में आम नागरिकों को लगाया जाएगा। जियाशिंग सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने कहा है, चाइनीज कंपनी सिनोवैक बायोटेक लिमिडेट की ओर से विकसित किए गए टीके को 18 से 59 साल के लोगों को 400 युयान (59.5 डॉलर) में दिया जाएगा।

कितनी डोज लगेंगी

जियाशिंग सीडीसी ने यह भी कहा है कि वैक्सीन को आधिकारिक रूप से मार्केटिंग के लिए मंजूरी नहीं मिली है, इसे अभी केवल अर्जेंट यूज के लिए मंजूर किया गया है। वैक्सीन को दो डोज हैं जो 14-28 दिनों के अंतराल पर लगाया जाता है।

रॉयटर्स ने शुक्रवार को एक रिपोर्ट में कहा, कंपनी का वैक्सीन ब्राजील, इंडोनेशिया और तुर्की में आखिरी चरण के ट्रायल में है। कंपनी ने कहा है कि फेज 3 का अंतरिम विश्लेषण नवंबर की शुरुआत में आ सकता है। जून के अंत में चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन (NH) ने चाइनीज वैक्सीन मैनेजमेंट कानून के तहत हाई रिस्क लोगों के लिए वैक्सीन के इमर्जेंसी यूज को मंजूरी दी थी।

डब्ल्यूएचओ ने क्या कहा

25 सितंबर को एक टॉप हेल्थ ऑफिसर ने कहा था कि बीजिंग को इमर्जेंसी यूज के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन से सहमति और समर्थन मिला है। जुलाई से अब तक चीन ने प्रायोगिक टीका हजारों लोगों को लगाया है। हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने एचटी से कहा था कि बीजिंग ने घरेलू प्राधिकरण के फैसले पर टीकाकरण शुरू किया था। यहां हम ये भी बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन इस मामले में चीन का खुला समर्थन कर रहा है। इसकी वजह से उसे दुनिया के तमाम बड़े देशांे की नाराजगी भी झेलनी पड़ रही है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!