Chhattisgarh

कोरबा : एनकेएच की ओपीडी 7 दिन बन्द रहने के बाद फिर शुरू, कोविड से सुरक्षा के अधिक उपाय भी अपना रहा प्रबंधन..

छत्तीसगढ़/कोरबा : न्यू कोरबा हास्पीटल (एनकेएच ) कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने की कवायद में जुटा रहा। सात दिनों तक अस्पताल की ओपीडी सेवा बंद रख कर फोन पर निःशुल्क परामर्श सेवा देने के बाद अब कोरोना से बचाव के और अधिक उपायों और संसाधनों के साथ मरीजों के सुरक्षित इलाज के लिए एनकेएच तैयार है।

एनकेएच के प्रबंधन ने कोरोना से बचाव के उपाय अपनाते हुए अस्पताल के बाहर टेस्टिंग रूम का निर्माण कराया है। यहां अस्पताल पहुंचने वाले हर व्यक्ति का टेस्ट किया जाएगा। टेस्ट निगेटिव मिलने पर ही संबंधित व्यक्ति को अस्पताल में एंट्री मिलेगी। अस्पताल पहुंचने वाले ऐसे मरीज जिनकी कोविड टेस्ट निगेटिव रहेगी फिर भी उनमें लक्षण होंगे तो ऐसे मरीजों के लिए अलग से कमरा बनाया गया है। यह कमरा अस्पताल के बाहर ही है। यहां मरीज का समुचित उपचार सुरक्षा के साथ किया जाएगा ताकि अन्य मरीज सुरक्षित रहें ।

पूरे अस्पताल की दो बार क्लीनिंग व सेनेटाइजेशन

एनकेएच प्रबंधन ने पूरे स्टॉफ का कोविड टेस्ट करा दिया है। प्रशासन के कोरोना गाईड लाईन के तहत अस्पताल को रोजाना दो बार क्लीनिंग कराया जा रहा है। अस्पताल के हर एक हिस्से की एरियावार क्लीनिंग का काम सुबह और शाम किया जा रहा है। शासन-प्रशासन के मापदंडों को ध्यान में रखते हुए अस्पताल के हर तरफ हेंड सेनेटाइज मशीन लगा दी गई है। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य किया गया है। बिना मास्क व सेनेटाइज किए किसी को भी अस्पताल में एंट्री नहीं दी जा रही है।

सभी हॉस्पिटल स्टाफ का कोरोना टेस्ट -डॉ. चंदानी

एनकेएच के डायरेक्टर डॉ. एस.चंदानी ने बताया कि अस्पताल में कार्यरत सभी मेडिकल स्टाफ की कोरोना जाँच कराई गयी है। कोरोना पॉजिटिव पाए गए स्टाफ का अस्पताल के बाहर अलग स्थान पर इलाज कराया जा रहा है वहीं कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने अस्पताल की ओपीडी 7 दिनों तक बंद राखी गयी थी। सभी मरीजों को फोन पर नि:शुल्क ओपीडी की सुविधा मुहैया कराई गई। अस्पताल में ओपीडी सेवा बंद रहने के दौरान कोरोना से बचाव के एहतियात और संसाधनों को और अधिक बढ़ाने की दिशा में काम किया गया है। कोरोना से जीतने के लिए स्वयं की सुरक्षा और नियमों का पालन जरूरी है। एनकेएच प्रबंधन अपने स्टाफ सहित सबकी सुरक्षा और नियमों के पालन को लेकर कटिबद्ध है।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!