CHHATTISGARH

जनपद पंचायत मालखरौदा अंतर्गत ग्राम पंचायत आमनदुला में सरपंच व सचिव द्वारा शासन की राशि का गबन करने का मामला आया सामने..

छत्तीसगढ़ : जनपद पंचायत मालखरौदा के अंतर्गत ग्राम पंचायत आमनदुला में सरपंच श्रीमती प्रियंका अभिमन्यु गबेल एवं सचिव द्वारा शासन की राशि का गबन करने का मामला सामने आया है जिस पर ग्राम के ग्राम पटेल कवि वर्मा द्वारा कलेक्टर एवं जनपद पंचायत सीईओ को लिखित शिकायत कर जांच की मांग की गई है जिस पर यह बताया गया है कि सरपंच एवं सचिव द्वारा 14 वित्त एवं मूलभूत की राशि को फर्जी बिल लगाकर गलत तरीके आहरण की गई है तथा शासन की राशि का गबन किया गया है बताया गया है कि ग्राम पंचायत सरपंच द्वारा करुणा काल के प्रारंभ में 300 का दवाई 500 ले बार एवं 1000 ट्रैक्टर का किराया कर सैनिटाइजिंग दवाई का छिड़काव कराया गया था जिसमें 34800 का फर्जी बिल लगाकर शासन की राशि का गबन किया गया है जिसकी पुस्टि दवाई छिड़कने वाले पांचो और गामीणो आदि से किया जा सकता है इसी प्रकार ग्राम पंचायत द्वारा गांव में 4 नग सिंगल फेस पंप लगाने का फर्जी बिल लगाकर 24000 -24000 हजार आहरण किया गया है जबकि गांव में दो ही स्थान पर भरत श्रीवास और मंडी पारा में ही पंप लगाया गया है इसी प्रकार दो नग नया पम्प का फर्जी बिल लगाकर राशि का गबन किया गया है इसी प्रकार ग्राम पंचायत द्वारा गोठान में बोर का खुदाई कराया गया है जिसको 250 फीट गहरा खुदाई का कार्य कराकर 715 फीट खुदाई कराने का फर्जी बिल लगाया गया है इसकी पुष्टि स्थित पंप की गहराई को नाप कर किया जा सकता है जिसमें 19000 खर्च करके 680050 की राशि का गबन किया गया है ठीक इसी प्रकार खोदे गए बोर में नलजल योजना का पुराना पंप को लगाकर नया पंम लगाने का फर्जी बिल लगाकर 80000 का गबन किया गया है.

इसी प्रकार गोविंद चन्द्रा के नाम पर 23000 एवं 25000 का फर्जी पंप रिपेयरिंग के नाम पर बिल लगाया गया है जबकि गांव में 10 पंप रिपेयरिंग बिल में बताया गया है जिसमें अभी तक किसी भी पंप में कोई राशि खर्च नहीं किया गया है साथ ही 7000 में नया पंप आता है परंतु बिल में रिपेयरिंग के नाम से 8000 निकालकर गबन किया गया है इसी कड़ी में ग्राम पंचायत के कॅरोना काल के दौरान में बाहर से आए मजदूरों को हाई स्कूल एवं मिडिल स्कूल में मात्र 140 मजदूर रखा गया था जिसके भोजन के नाम पर 160000 एवं 199000 का फर्जी बिल लगाकर प्शासन की राशि का गबन किया गया है जबकि उक्त मजदूरों में से अधिकतर मजदूर आमनदुला के ही थे जिनको चावल दाल आलू औरलकड़ी ही दिया गया था जबकि शासन द्वारा निर्धारित था कि प्रति व्यक्ति 60 प्रतिदिन के हिसाब से ही खर्च किया जाना था इसके बावजूद सरपंच प्रियंका एवं सचिव द्वारा मिलीभगत करके शासन की राशि का गबन किया गया है इसी कड़ी में ग्राम पंचायत के नाली सफाई के नाम पर 80000 का फर्जी बिल लगाया गया है जबकि नली का किसी प्रकार कोई सफाई नही किया गया है जिसकी पुष्टि ग्रामीण से पूछताछ के आधार पर किया जा सकता है जो कि पूर्ण रूप से फर्जी कार्य बताकर शासन की राशि का गबन किया गया है उक्त फर्जीवाड़ा की लिखित रूप में शिकायत ग्राम के ग्राम पटेल कवि वर्मा द्वारा माननीय कलेक्टर महोदय एवं जनपद पंचायत सीईओ से की गई है जिसकी जांच दिनांक 24 सितंबर समय 1:00 बजे ग्राम पंचायत में अधिकारियों द्वारा उपस्थित होकर किया जाना है उक्त फर्जीवाड़ा की जांच के बाद ही पता चलेगा कि ग्राम विकास के लिए दी जाने वाली राशि का किस प्रकार सरपंच श्रीमती प्रियंका अभिमन्यु गबेल एवं सचिव द्वारा गबन किया गया है

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!