EntertainmentNational

सुशांत के पैसों से रिया कर रहीं थी ये काम, बिहार पुलिस की जांच में कई बड़े खुलासे..

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस की जांच करने मुंबई गए पटना के नगर पुलिस उपाधीक्षक आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी शुक्रवार की देर रात पटना पहुंच गए. उन्हें रिसीव करने के लिए खुद पटना हवाई अड्डे पर पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय मौजूद थे. पटना लौटने के बाद आईपीएस अधिकारी तिवारी ने पत्रकारों से ज्यादा बात नहीं की लेकिन उन्होंने इतना जरूर कहा कि बीएमसी ने उन्हें मुंबई में क्वारंटीन नहीं करता, तो चार-पांच दिन में जांच में और प्रगति होती तथा कुछ और लोगों से पूछताछ की जाती. कुछ और सबूत जुटाए जाते.

इधर, बिहार पुलिस ने CBI को जांच रिपोर्ट सौंपी है. बिहार पुलिस की एसआईटी जांच में कई हैरान करने वाली जानकारियां सामने आई हैं. सूत्रों के मुताबिक, मुसीबत से बचने के चक्कर में सुशांत की जान गई. सुशांत रिया की चालाकियों को जान चुके थे. सुशांत के पैसों पर रिया ने कब्जा कर लिया था. सुशांत के पैसों से रिया अपने परिवार वालों के नाम पर प्रॉपर्टी खरीद रही थीं. सुशांत को जब इस बात का अहसास हुआ तो उनके साथ बुरा बर्ताव होने लगा. सुशांत रिया से पीछा छुड़ाना चाहते थे लेकिन सच पर पर्दा बनाए रखने के लिए सुशांत को दवा के डोज दिए जा रहे थे.

शिवसेना के गढ़ में एसआईटी ने अपना ठिकाना बनाया था लेकिन मुंबई पुलिस इस ठिकाने को नहीं खोज पाई. इस रिपोर्ट की मानें तो मुंबई पुलिस पटना एसआईटी की टीम को नॉनवेज खिलाने के बहाने उनका ठिकाना जानना चाहती थी. मुंबई पुलिस ने पटना एसएसपी से भी संपर्क किया था, बेहतर सुविधा दिलाने के नाम पर एसआईटी का ठिकाना जानना चाहती थी. मुंबई पुलिस के अधिकारी SIT से सुशांत केस को छोड़ सभी मुद्दों पर बात करते थे. सुशांत का मुद्दा सामने आने पर बात टाल देते थे.

एसआईटी टीम ने छानबीन में पाया कि दिशा सालियान को सुशांत के साथ हो रही घटनाओं की शायद जानकारी थी. पटना एसआईटी की टीम को मिली जानकारी. सुशांत को नोट लिखने की आदत थी. छोटी-छोटी बातों पर भी सुशांत नोट लिखते थे. लेकिन अपनी सुसाइड पर सुशांत ने कोई मैसेज क्यों नही छोड़ा. SIT को सुशांत के सुसाइड लक्षणों पर भी संदेह है. पोस्टमॉर्टम फुटेज एसआईटी के पास नहीं होने के कारण जांच में असर पड़ा. एसआईटी समेत पटना SP को पुलिस मुख्यालय ने अलर्ट किया था.

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close