Chhattisgarh

ग्राम पंचायत कोल्गा सचिव जिला सीईओ के निर्देशों का नही कर रहे पालन, मुख्यालय नही आने से पंचायत के कार्य हो रहे प्रभावित, ग्रामीणों के बताई अपनी परेशानी, पढ़े पूरी खबर

छत्तीसगढ़ INN24न्यूज़ कोरबा : जिला सीईओ के निर्देशों के बावजूद कुछ पंचायत के सचिव अभी भी मुख्यालय नही पहुँच रहे है और ग्रामीणों को तरह तरह के बहाने बताकर बचने का प्रयास भी कर रहे है लेकिन उन्हें क्या मालूम कि जिला सीईओ के द्वारा सचिवों को मुख्यालय में क्यो बैठने के निर्देश दिए है उन्हें तो यह निर्देश महज एक दिखावा लग रहा है जबकि मुख्य वजह यह है कि पंचायतों के कार्य प्रभावित न हो सरकार की योजना का लोगो को भरपूर लाभ मिले पंचायत में कोई भी छोटी बड़ी समस्या हो उन्हें सुन सके ताकि उसका निदान किया जा।

उल्लेखनीय है कि लगातार पंचायत सचिवों के मुख्यालय में नही बैठने की शिकायतें सुनने को मिल रही थी कारण पंचायत के सभी कार्य प्रभावित हो रहे थे जिसे गंभीरता से लेते हुए जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार ने जिले के सभी जनपदों के पंचायत सचिवों को सप्ताह में तीन दिन बैठने का निर्देश दिया है जिसमें मंगलवार,गुरुवार एवं शनिवार निर्धारित है जिसका असर कई पंचायतों में हुआ है वही कई पंचायत ऐसे भी है जहाँ सीईओ के निर्देशो की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है।

ताजा मामला ग्राम पंचायत कोल्गा में देखने को मिल रहा है यहाँ कि सचिव सूरज बरेठ द्वारा सीईओ के निर्देशो का पालन नही किया जा रहा है जिसकी पुष्टि खुद वर्तमान सरपंच का बेटा कर रहा है वही स्थानीय ग्रामीणों ने भी इस बात की पुष्टि की है कि सचिव अभी बिल्कुल भी नही आ रही है पंचायत भवन बंद पड़ा हुआ है गांव में बहुत सारी समस्या है जिसके लिए हम लोग कई बार सचिव को बोले भी है मगर वह ध्यान नही देती है अपने मर्जी का करती है जिसके कारण गांव की स्थिति में सुधार नही हो रहा है।ग्रामीणों ने यह भी कहा कि इस तरह सचिव के मनमानी से हम लोग तंग आ चुके है।हम चाहते है कि सचिव पर उच्च अधिकारियों द्वारा कार्यवाही किया जाये ताकि अपने कार्यो में लापरवाही न बरतें।

पंचायत मुख्यालय से 40 किमी दूर से करती है आना जाना
ग्रामीणों ने बताया कि सचिव बाहर रजगामार से आना जाना करती है जो कि ग्राम कोल्गा से लगभग 40 किमी दूर है यही कारण है कि सचिव सूरज बरेठ पंचायत बहुत कम आती है और आती भी है तो जल्दी चली जाती है।

अब देखने वाली बात यह होगी कि इस मामले के संज्ञान में आने के बाद जिला सीईओ सचिव के खिलाफ किस तरह की कार्यवाही करती है और ग्राम पंचायत के ग्रामीणों की समस्या को किस तरह निदान करती है यह तो कार्यवाही होने के बाद पता चल सकेगा।

विशेष संवाददाता गणेश साहू

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!