National

कोरोना वायरस के खौफ से वॉशिंग मशीन में धो डालें 14 लाख रुपये, सुखाने के लिए ओवन में डाला

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से भारत समेत दुनिया के कई हिस्से प्रभावित हैं। इस घातक वायरस से पैदा हो रही चुनौती और उनसे निपटने के लिए लोग पूरी तरह से सावधानी बरत रहे हैं। घर से बाहर निकलने पर लोग सोशल डिस्टेंसिंग भी फॉलो कर रहे हैं। इसी बीच एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे। कोरोना वायरस के खौफ से एक व्यक्ति ने बड़ी संख्या में नोट वॉशिंग मशीन में धुल डाले।

दरअसल, यह मामला दक्षिण कोरिया का है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, दक्षिण कोरिया में सियोल के पास अंसन शहर के रहने वाले एक शख्स ने कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से अपने सारे पैसे डिसइंफेक्टेड करने के लिए करीब 14 लाख रुपये वॉशिंग मशीन में डाल कर धो दिए। इसके बाद इन पैसों को सुखाने के लिए ओवन में डाल दिया, जिससे काफी नोट जल गए।

नोटों को डिसइंफेक्ट करने के इस तरीकों के बारे में सुनकर सबलोग हैरान हैं। नोटों के क्षतिग्रस्त होने के बाद यह व्यक्ति बैंक ऑफ कोरिया में यह पता लगाने के लिए पहुंचा कि क्या नए बिलों के लिए ये नोट बदले जा सकते हैं। बैंक अधिकारियों के मुताबिक नुकसान काफी था। ज्यादातर नोट क्षतिग्रस्त हो गए थे।

बैंक ऑफ कोरिया ने बताया कि क्षतिग्रस्त और कटे-फटे नोटों की अदला बदली नियमों के तहत की जा सकती है। जिसके बाद बैंक ऑफ कोरिया ने नियमों के तहत, व्यक्ति को 19,320 डॉलर की नई करेंसी प्रदान की।

बैंक के अधिकारियों ने बताया कि हम इस शख्स के कुछ नोटों को नहीं बदल सकें। क्योंकि ये काफी क्षतिग्रस्त हो चुके थे। बाकी नोटों को बैंक के नियमानुसार बदल दिया गया है। ऐसे मामलों में एक व्यक्ति कितना नोट बदल सकता है, यह नुकसान की सीमा पर निर्भर करता है। वहीं बैंक के अधिकारियों ने गोपनीयता के वजह से इस शख्स के बारे में कोई व्यक्तिगत जानकारी नहीं दी। फिलहाल इस शख्स के पैसों को डिसइंफेक्टेड करने का तरीका चर्चा का विषय बन गया है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close