CHHATTISGARHCrime

कटघोरा: बांस कटाई मामले पर BJP की जांच समिति ने किया बांसबाड़ी का मुआयना… ननकीराम ने कहा “लम्बे वक़्त से चल रही है बांसों की अवैध कटाई, निशान मौजूद”.. सौरभ सिंह ने किया बीटगार्ड का बचाव.. पढ़े विस्तार से.

Satya Sahu INN24

कटघोरा वनमंडल के बांकीमोंगरा बीट में पिछले दिनों हुई बांसों की अवैध कटाई मामले पर भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने राज्य सरकार के जांच प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए खुद की एक जांच समिति बनाई है. इस समिति की अगुवाई पूर्व गृहमंत्री व मौजूदा रामपुर विधायक ननकीराम कंवर कर रहे हैं. वहीं दो अन्य सदस्यों में सौरभ सिंह व कृष्णमूर्ति बांधी भी शामिल है.

भाजपा की यह समिति आज जांच के सिलसिले में कटघोरा वन मंडल पहुंची हुई थी. उन्होंने बांकीमोंगरा हल्दीबाड़ी के रिजर्व फॉरेस्ट का दौरा करते हुए बांस के जंगल का बारीकी से मुआयना किया साथ ही तथ्यों को अपनी रिपोर्ट में शामिल किया. मुआयना के बाद जांच समिति के अध्यक्ष ननकीराम कंवर ने मीडिया कर्मियों से बात की. इस दौरान उनके साथ भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक चावलानी, भाजपा के स्थानीय नेता व वनमण्डल कटघोरा के रेंजर समेत दूसरे कर्मी मौजूद थे.

ननकीराम ने मीडिया को बताया कि मुआयना से यह बात साफ हो चुकी है कि रिजर्व फॉरेस्ट में बांसो की अवैध कटाई हुई है और लंबे वक्त से जारी है. बांस के ठूंठ साफ तौर पर इस गड़बड़ी को बयां कर रहे है. उन्होंने बांसों के अलग-अलग झुंड को बारीकी से देखा. के बांस के झुंड में दावानल (आग से जलने) के निशान भी है. उन्हें लगता है कि बांसों को कटाई के बाद जलाया गया है. बांसों की इस बड़े पैमाने पर हुई कटाई में वनमण्डल के कर्मियों ने बताया कि यह कटाई गांववालों ने की है. लेकिन वनकर्मियों के इस दलील या कहे बचाव को ननकीराम कंवर ने खारिज कर दिया. उन्होंने डीएफओ को जारी नोटिस में इस बात को मजबूत तौर पर पूछा है कि बांसों की कटाई कब-कब और किन उद्देश्यों से की गई इसकी जानकारी दी जाए.

ननकीराम कंवर के मुताबिक यह आश्चर्य की बात है कि बारिश के मौसम में बांस के पौधे उगते है और विकसित होते है लिहाजा इस मौसम मे बांसों की कटाई नही की जा सकती फिर किन वजहों से किनके इशारे पर इस पूरी कटाई को अंजाम दिया गया? बकौल जांच समिति प्रमुख वे बहुत सी चीजो का खुलासा अभी मीडिया के सामने नही कर सकते. वे जांच की अपनी अंतिम रिपोर्ट नेताओं को प्रेषित करेंगे और वही इस जांच के नतीजे का खुलासा भी करेंगे. हालांकि प्रथम दृष्टया यह पूरी कटाई अवैध ही है इसमें कोई संदेह नही.

समिति के दूसरे सदस्य सौरभ सिंह ने भी मीडियाकर्मियों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार भले इस मामले में अपनी जांच कर चुकी हो बावजूद वे इस प्रकरण में लीपापोती करते नजर आ रहे है. प्रदेश में बड़े पैमाने पर जंगली में अवैध कटाई हो रही है लेकिन कटघोरा में हुई कटाई आज मुद्दा बन चुका है. उनकी टीम तथ्यों को सामने रखेगी और दोषियों पर उचित कर्रवाई की मांग करेगी. सौरभ सिंह ने बीटगार्ड शेखर रात्रे के व्यवहार का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने अपने शासकीय कर्तव्यों का निर्वहन किया है.

बीजेपी जांच समिति के सदस्य कटघोरा के वनमण्डल विश्राम गृह में भी रुके हुए थे. यहां उन्होंने वन्य अफसरों से चर्चा की.

Tags

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!