Chhattisgarh

BREAKING : छत्तीसगढ़ के 8 जिलों के लॉकडाउन का ऐलान.. जरूरी सेवाएं रहेंगी चालू.. इस जिले में लॉकडाउन नहीं होने से लोग हैरान.

राजधानी रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर, सरगुजा, कोरिया, कांकेर, बलौदाबाजार और कोरबा जिले में भी एक सप्ताह का लॉक डाउन लगाया जाएगा।

दुर्ग, बिलासपुर और कोरबा में 23 जुलाई से 29 जुलाई तक लॉकडाउन रहेगा। वहीं रायपुर, कोरिया, बलौदाबाजार और सरगुजा में 22 जुलाई से और कांकेर में 21 जुलाई से लॉकडाउन लागू किया जाएगा।

कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए राजधानी रायपुर के कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने आदेश जारी किया है। आदेश के मुताबिक 22 जुलाई से 28 जुलाई की रात 12 बजे तक लॉक डाउन रहेगा. लॉक डाउन के संबंध में विस्तार से दिशा निर्देश जारी किए गए हैं.

मंत्री मंडल की बैठक के बाद रायपुर जिला प्रशासन की बैठक में ये फैसला लिया गया है। वहीं बिलासपुर और कांकेर में भी लॉकडाउन लगना तय माना जा रहा है।

बता दें रायपुर कलेक्टर एस भारती दासन ने शनिवार को आपात बैठक बुलाकर टोटल लॉकडाउन को लेकर आला अफसरों से चर्चा की थी। वहीं शनिवार शाम 4 बजे सीएम भूपेश बघेल ने भी लॉकडाउन को लेकर अधिकारियों की बैठक लेकर प्रदेश में लॉकडाउन को लेकर रायशुमारी की थी।

इस बैठक में सभी कलेक्टर्स को फ्री हैंड दे दिया गया है। वे अपने जिलों मेंं कोरोना मरीजों की संख्या के आधार पर एक सप्ताह का लॉकडाउन लगा सकते हैं। लेकिन लॉकडाउन की सूचना उन्हें तीन दिन पहले सरकार को देनी होगी।

इस दौरान शहर के सभी शासकीय, अर्ध शासकीय और अशासकीय कार्यालय पूरी तरह से बंद होंगे। बस, ऑटो, रिक्शा, ई-रिक्शा सहित सभी तरह के परिवहन पर भी रोक लगाई गई है।

जिला प्रशासन ने उद्योग इकाइयों फैक्ट्रियों को कुछ शर्तों पर खुले रखने की अनुमति दी है, वहीं रजिस्ट्री ऑफिस, बैंक, पेट्रोल पंप, एलपीजी सिलेंडर, सीएनजी जैसी अति आवश्यक सेवा को लॉकडाउन से बाहर रखा गया है।

राजनांदगांव में लगातार कोविड-19 के मरीज है जिससे यहां लॉक डाउन की पूरी संभावनाएं देखी जा रही है परंतु राजनांदगांव कलेक्टर ने यह साफ किया है कि यहां पहले की तरह व्यवस्थाएं चालू रहेगी और नियमों का कड़ाई से पालन करवाया जाएगा।

राजनाँदगाँव जिले में लागू रहेगी वर्तमान व्यवस्था, सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क होगा अनिवार्य

राजनाँदगाँव के कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला ने जिले में लॉकडाउन के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की। कलेक्टर वर्मा ने कहा कि जिले में अभी वर्तमान में जारी व्यवस्था लागू रहेगी और लॉकडाउन के संबंध में समय-समय पर समीक्षा कर निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संबंध में जारी प्रोटोकॉल का सभी नागरिकों को पालन करना है, नहीं किए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी दुकाने निर्धारित समय शाम 4 बजे तक बंद हो जानी चाहिए।
इसके लिए टीम बनाई जाए, जिसमें पुलिस के भी अधिकारी शामिल होंगे। उन्होंने नगर निगम आयुक्त से कहा कि व्यापारी एवं ग्राहक मास्क लगाकर ही रहेंगे और मार्केट में माईक के माध्यम से नागरिकों को चेतावनी देने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि नागरिक अनावश्यक घर से बाहर न निकले। उन्होंने कहा कि कंटेन्मेंट जोन के संबंध में जारी किए गए निर्देशों का कड़ाई से पालन करना है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल पंप, अस्पताल, क्लीनिक, दवाई दुकान, दूध एवं इससे संबंधित उत्पाद, सब्जी दुकाने नियत समय अनुसार खुले रहेगें। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा।कलेक्टर श्री वर्मा को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि सृष्टि कालोनी, तुलसीपुर, लालबाग, चिखली, नया ढाबा एवं सोमनी आईटीबीपी को कैम्प में कोविड-19 के मरीज अधिक मिले है। कलेक्टर वर्मा ने अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक को कोविड-19 हास्पिटल के चौथे फ्लोर को पूर्ण कराने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने हॉस्पिटल स्थित टेस्टिंग लैब में वैज्ञानिक की नियुक्ति ने निर्देश दिए। उन्होंने हरेली त्यौहार एवं गणेश चतुर्थी में कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करने के लिए सबसे कहा है। उन्होंने कहा कि मूर्तिकार आठ फीट से अधिक गणेश प्रतिमा नहीं बनाएंगे। पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला ने कहा कि दुकानों एवं चौक-चौराहों में कोविड-19 से संबंधित दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने पर सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को गणेश चतुर्थी के पहले चिन्हांकित अपराधियों को जेल में बंद करने के निर्देश दिए। उन्होंने मास्क नहीं पहनने वाले तथा कोविड-19 संबंधी प्रोटोकाल का पालन नहीं करने वालों पर जुर्माना लगाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर अपर कलेक्टर ओंकार यदु, जिला पंचायत सीईओ तनुजा सलाम, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुश्री सुरेशा चौबे, नगर निगम आयुक्त चन्द्रकांत कौशिक, एसडीएम मुकेश रावटे एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close