National

कोरोना वायरस ने ली एक ही परिवार के 5 लोगों की जान.. दिल्ली से शादी समारोह से लौटी थी महिला.. उसी से पूरी फैमिली हुई संक्रमित.

लॉकडाउन खुलते ही लोग कोरोना वायरस जैसी महामारी को नजर अंदाज करने लगे हैं। लोग सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क घर पर छोड़ कर निकलने लगे हैं और कुछ लोगों के पास मास्क मौजूद भी होता है तो वह उनके जेब की शोभा बढ़ाता हुआ दिखता है वही इन जैसे लोगों को कोई यदि मास्क लगाया दिख जाए तो वह उसका उपहास उड़ाते है परंतु वह यह नहीं समझते कि उनकी यह छोटी सी गलती ही आगे जाकर उनके लिए ही नहीं बल्कि उनसे संबंधित सभी लोगों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। सरकार लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और मास्क लगाने के लिए जागरूक कर रही है परंतु लोग इसे समझने को तैयार ही नहीं है वह इन सभी बातों को हल्के में ले रहे हैं। यदि उनको सामान्य सर्दी खांसी होती है तो उसे भी वह मौसमी बीमारी कह कर नजर अंदाज कर देते हैं और उसके फैलने से रोक संबंधित सावधानियां नहीं बरतते हैं।

झारखंड के कोयला नगरी धनबाद में एक परिवार को कोरोना वायरस और उससे जुड़ी गाइडलाइन को नजरंदाज करना बेहद भारी पड़ा है. कोरोना वायरस की वजह से अब तक एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो चुकी है जबकि एक सदस्य अस्पताल में मौत से लड़ाई लड़ रहा है.

दरअसल कतरास के चौधरी परिवार की सबसे बुजुर्ग महिला 27 जून को एक शादी समारोह में शामिल होने दिल्ली गई थीं. वहां से लौटने के बाद जब 90 साल की वृद्ध महिला की तबियत बिगड़ी तो अस्पताल में पता चला महिला कोरोना संक्रमित हैं. इलाज के बाद भी महिला को नहीं बचाया जा सका और 4 जुलाई को उनकी मौत हो गई.

इसके बाद जब पूरे परिवार और महिला के बेटों की जांच की गई तो दो बेटे संक्रमित पाए गए और इलाज के दौरान उनकी भी मौत हो गई. इसके बाद संक्रमण की वजह से महिला के दो और बेटे बीमार पड़ गए. कोरोना का डर और डिप्रेशन में जाने की वजह से उन्होंने भी दम तोड़ दिया.

सिर्फ 12 दिनों के भीतर इस परिवार में कोरोना वायरस से पांच लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं महिला का पांचवां बेटा भी कोरोना संक्रमित पाया गया है और उसे राजधानी रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है.परिवार के सबसे वृद्ध महिला की मौत के बाद धनबाद में उनके आसपास रहने वाले 70 से ज्यादा लोगों की जांच की गई थी. इसी दौरान मृतक महिला के तीन बेटे भी संक्रमित पाए गए थे. महिला के दो बेटे पहले से ही हृ्दय और फेफड़े संबंधी रोग से ग्रसित थे।

इस परिवार के एक बेटे की मौत धनबाद के सरकारी अस्पताल में हो गई जबकि दूसरे की कोविड स्पेशल अस्पताल और तीसरे बेटे की मौत रांची के रिम्स अस्पताल में हुई. चौथे बेटे की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी लेकिन उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. इसके बाद उसे जमशेदपुर के टाटा मेमोरियल अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उसकी भी मौत हो गई. महिला का छठा बेटा अभी दिल्ली में है।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close