Chhattisgarh

कोरबा : कोरोना नियंत्रण के बाद अब अन्य विकास कार्यों को तेज करने पर प्रशासन की नजर.. कलेक्टर ने समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में दिखाई सख्ती.. दिए जरूरी निर्देश.

छत्तीसगढ़/कोरबा : जिले में कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के बाद कलेक्टर किरण कौशल की नजर अब अन्य विकास कार्यों और योजनाओं के सुचारू क्रियान्वयन पर है। उन्होंने जिले में संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं को तेजी से पूरा करने और जिले वासियों को अधिक से अधिक संख्या में लाभान्वित करने के लिए पोस्ट कोरोना पीरियड में की जाने वाली गतिविधियों के बारे में आज अधिकारियों से विचार-विमर्श किया। श्रीमती कौशल ने समय सीमा की बैठक में राजस्व प्रकरणों के लंबित रहने, वन अधिकार मान्यता पत्र बनाने और वितरण में धीमी गति, सामाजिक सुरक्षा पेंशनों की स्वीकृति में विलंब जैसे विषयों पर नाराजगी जताई और अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये। कलेक्टर ने कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर और चेहरे पर मास्क लगाकर सभी शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों को शासकीय योजनाओं के क्रियान्वयन में जुट जाने के लिए भी निर्देशित किया।श्रीमती कौशल ने नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी विकास कार्यक्रम के तहत भी कामों में तेजी लाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री कुंदन कुमार, अपर कलेक्टर श्रीमती प्रियंका महोबिया, नगर निगम आयुक्त श्री एस. जयवर्धन सहित अन्य विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे। वीडियो कांफेंसिंग के माध्यम से समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में सभी अनुभागों के एसडीएम एवं विभागों के मैदानी अधिकारी भी शामिल हुए।
सभी विद्यार्थियों के जाति प्रमाण पत्र बनाने में सहयोग करेंगे स्कूली शिक्षक- समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में कलेक्टर ने स्कूली विद्यार्थियों के जाति प्रमाण पत्र जारी करने की धीमी गति पर नाराजगी व्यक्त की और शत प्रतिशत विद्यार्थियों को आगामी एक सप्ताह में जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए जरूरी दस्तावेज आदि में सहयोग करने स्कूली शिक्षकों को निर्देशित किया। श्रीमती कौशल ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि स्कूली विद्यार्थियों के जाति प्रमाण पत्र बनाने के लिए जरूरी दस्तावेज तैयार करने शिक्षक पहल करें। उन्होंने इस काम के लिए शिक्षकों को जिम्मेदारी सौंपने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि जाति प्रमाण पत्र बनाने के लिए जरूरी आवेदन, सहपत्र दस्तावेज आदि शिक्षक विद्यार्थियों से लेकर पूरी तरह भरवाकर लोक सेवा केंद्रों के माध्यम से आनलाईन प्रस्तुत करें। संबंधित जारीकर्ता अधिकारी बिना विलंब के इन आवेदनों की जांच कर पात्रता अनुसार प्रमाण पत्र जारी करें। श्रीमती कौशल ने यह भी निर्देशित किया कि जारी प्रमाण पत्रों को रजिस्टर्ड डाक से विद्यार्थी के पते पर भेजा जाये ताकि मुख्यमंत्री की मंशानुसार उन्हें घर बैठे प्रमाण पत्र प्राप्त हो सके।
एक सप्ताह में करना होगा सभी पात्र हितग्राहियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशनों की स्वीकृति- जिले में सामाजिक सुरक्षा पेंशनों की स्वीकृति के मामले में भी कलेक्टर श्रीमती कौशल बैठक में सख्त हुईं। उन्होंने अभी तक शत प्रतिशत पात्र हितग्राहियों को पेंशनों की स्वीकृति नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की और विकासखंड मुख्यालयों में शिविर लगाकर आने वाले सात दिनों के भीतर सभी पात्र हितग्राहियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिए। श्रीमती कौशल ने कहा कि गांवों में सभी पात्र वृद्धों, दिव्यांगों, विधवाओं-निराश्रितों के नियमानुसार पेंशन प्रकरण तैयार करवाकर उन्हें तत्काल स्वीकृत किया जाये और उनका पूरा डाटावेस साफ्टवेयर में आनलाईन इंट्री किया जाये। श्रीमती कौशल ने ग्रामीण क्षेत्रों में वन अधिकार मान्यता पत्र वितरण की भी बैठक में समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न कारणों से वन विभाग में लंबित पड़े प्रकरणों को जल्द से जल्द निराकृत करने के निर्देश दिए। श्रीमती कौशल ने व्यक्तिगत एवं सामुदायिक पट्टों के वितरण के लिए भी तैयारी करने के निर्देश दिए।
सघन वृक्षारोपण कार्यक्रम की भी हुई समीक्षा, इस वर्ष आठ लाख से अधिक पौधे लगेंगे- चालू मानसून मौसम में जिले में आठ लाख से अधिक पौधों का रोपण करने की योजना है। सघन वृक्षारोपण कार्यक्रम के लिए जिले में अब तक की गई तैयारियों की समीक्षा भी कलेक्टर ने आज की बैठक में की। उन्होंने वृक्षारोपण के लिए गढढे खोदे जाने, खाद की आवश्यकता, जरूरत के हिसाब से सिंचाई की व्यवस्था और रोपे गये पौधों की सुरक्षाा की पूरी की गई तैयारियों की जानकारी अधिकारियों से ली। श्रीमती कौशल ने बैठक में निर्देशित किया कि सघन वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत इस वर्ष जिला सहित विकासखंड और क्लस्टर स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। प्रत्येक विकासखंड मुख्यालय में कार्यक्रम के साथ-साथ विकासखंड को चार क्लस्टरों में बांटकर पौध रोपण के लिए ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया जायेगा। इसी प्रकार सभी नगरीय निकायों में भी सघन वृक्षारोपण कार्यक्रम होंगे। श्रीमती कौशल ने इन कार्यक्रमों के आयोजन के लिए कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए और अगले दो-तीन दिनों में पूरी कार्य योजना से अवगत कराने को कहा। इस वर्ष अकेले रेशम विभाग ही जिला में लगभग 18 जगहों पर साढ़े पांच लाख पौधे लगाने की तैयारी कर रहा है।
समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में कलेक्टर ने नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी योजना के तहत सामुदायिक चारागाह एवं बाड़ी विकास के नये प्रस्ताव अगले दो दिनों में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। श्रीमती कौशल ने पहले और दूसरे चरण के अधूरे पड़े सभी गौठानों के काम अगले 07 दिनों में पूरा कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने पढ़ाई तुंहर द्वार कार्यक्रम के तहत शिक्षकों को विद्यार्थियों के घर-घर जाकर मूल्यांकन करने के निर्देश दिए। लाॅक डाउन के कारण एक से तीन वर्ष के छोटे बच्चों और शिशुवती माताओं को किए जा रहे सूखे राशन वितरण का भी निरीक्षण करने के निर्देश कलेक्टर ने राजस्व अधिकारियों को दिए। श्रीमती कौशल ने जिले के सभी लोक सेवा केंद्रों को पूरी तरह सक्रिय कर लोगों को सभी उपलब्ध सेवाएं देने के निर्देश दिए। बारिश के मौसम को देखते हुए सभी शासकीय भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम निर्मित कराने के निर्देश भी कलेक्टर ने बैठक में दिये।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close