ChhattisgarhCrime

कोरबा: फोन पर बेटी ने कहा था “बचा लो, ये सब मुझे मार डालेंगे”.. दूसरे दिन अस्पताल में थम गई सांसे.. परिजनों ने ससुरालियों पर लगाया दहेज के लिए हत्या का आरोप.

Satya Sahu

इसी महीने के 4 जून को हरदीबाजार चौकी क्षेत्र की एक विवाहिता को कोरबा के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया था. यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी. बताया गया कि विवाहिता ने जहर पी लिया था. पोस्टमार्टम में भी यही बात सामने आई थी कि महिला की मौत जहर पीने की वजह से हुई है. वही अब मृतिका के पिता और अन्य परिजनों ने उसके सास, ससुर, पति और देवर पर बेटी को दहेज के लिये प्रताड़ित करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का गंभीर आरोप लगाया है. उन्होंने इसकी लिखित शिकायत हरदीबाजार चौकी में की थी. कार्रवाई नही होने पर सोमवार को उन्होंने जिला एसपी से मुलाकात की और जांच के उपरांत न्यायोचित कार्रवाई की मांग की. एसपी ने उन्हें मामले की छानबीन का भरोसा देकर विदा किया है.

                लालाराम यादव, मृतिका तरूणा के पिता

इस बारे में बताया गया कि कटघोरा थाना क्षेत्र के लखनपुर के रहने वाले लालाराम यादव जोकि पेशे से शिक्षक है उनकी बेटी तरूणा यादव का विवाह हरदीबाजार निवासी भागवत प्रसाद यादव के बेटे दीनदयाल उर्फ़ राजेश यादव से 13 वर्ष पूर्व 2007 में हिन्दू रीति रिवाज के मुताबिक सम्पन्न हुआ था. विवाह के दौरान मायके पक्ष ने यथाशक्ति बेटी पक्ष को दहेज व सामान भी दिया था.

इस विवाह के 11वर्ष बाद फरवरी 2018 में तरूणा के देवर अजय यादव का विवाह भी सम्पन्न हुआ. चूंकि अजय यादव के विवाह में वधू पक्ष अधिक सम्पन्न था लिहाजा भागवत के दूसरे बेटे अजय को राजेश की अपेक्षा अधिक दहेज मिला था. सम्भवतः इसी विवाह के बाद तरूणा के ससुराली उसे लगातार ताना मारते रहे. वे दहेज कम लाने की बात कहकर उसे प्रताड़ित भी करते थे और उससे पिता से कहकर पैसे मंगाने का दबाव भी बनाते थे. तरूणा के पिता के मुताबिक उसने इस प्रताड़ना की बात उसने बताई थी. जिसके बाद वह अक्सर अपने दामाद को पैसे भी भेजता रहता था.

उन्होंने बताया कि 4 जून की सुबह तरूणा ने उन्हें फोन करते हुये कहा था कि ससुराल के लोग उसे जान से मार डालेंगे.हो सके तो उसे वहां से ले जाये. इसी बातचीत के दौरान दामाद ने तरूणा से फोन छीन लिया था. किसी अनहोनी की आशंका को देखते हुए तरूणा के पिता ने फिर से फोन लगाया लेकिन फोन बंद आने लगा. अन्य नम्बर से जब कॉल किया गया तो उन्हें बताया गया कि सबकुछ ठीक है और चिंता की बात नही है. लेकिन 4 जून कि रात 9 बजे यह खबर मिली कि तरूणा को गंभीर हालत में कोरबा के अस्पताल लाया जा रहा है. उसने कबूतरों के लिए उपयोग आने वाला एक जहरीला तरल पी लिया है. दाखिले के बाद यहां निजी अस्पताल में तरूणा ने दम तोड़ दिया. यहां पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी जहर से मौत की पुष्टि हुई थी.

अब तरूणा के पिता ने उसके ससुर भागवत प्रसाद यादव, सास कुमारी यादव, पारी दीनदयाल उर्फ राजेश, देवर अजय यादव व देवरानी उमा यादव पर आत्महत्या के लिए उकसाने का गंभीर आरोप लगाया है. एसपी से भेंटकर उन्होंने पूरे मामले की जांच और उक्त लोगो पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने के अपराध में मामला दर्ज करने की मांग की है.

धारा 306 बी के तहत हो सकता है मामला दर्ज.

एसपी श्री अभिषेक मीणा ने इस सम्बंध में सीएसपी केएल सिन्हा व सम्बंधित चौकी के प्रभारी को अपराध दर्ज करने और मामले की विवेचना शुरू करने के लिए निर्देशित करने के संकेत मीडिया को दिए है. परिजनों के न्याय की इस मांग में आज भीम सेना के कार्यकर्ताओं ने भी एसपी से भेंट की. सभी ने तरूणा के मौत पर आशंका व्यक्त की है. जाहिर है विस्तार से छानबीन व पूछताछ के बाद ही यह साफ हो सकेगा कि आखिर तरूणा ने किन वजहों से आत्मघाती कदम उठाया था और संदिग्ध हालात में क्यो उसने मौत को गले लगा लिया था .

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close