Chhattisgarh

कोरोना की जंग में योद्धा बनी बम्हनीडीह स्वास्थ्य विभाग व उनकी टीम.. कर्तव्यों का निष्ठा पूर्वक कर रहे पालन.

छत्तीसगढ़/जांजगीर-चाम्पा : कोरोना से पूरा देश लड़ रहा है, लेकिन कुछ ऐसे योद्धा है जो फ्रंट पर हैं जैसे डॉक्टर, पुलिस, नर्स व सफाईकर्मचारी। ये ऐसे लोग हैं जिन्हें अपनी जान की भी चिंता नहीं है। इनका खुद का भी परिवार है, बच्चे हैं लेकिन देश सेवा से बढ़कर इन्हें अभी कुछ समझ नहीं आता। बम्हनीडीह के बीएमओ हरीश श्रीवास व उनकी टीम भी उन्हीं कोरोना योद्धाओं में से है,जो संकट के इस घड़ी में डट कर खड़े है और अपना कर्तव्य ईमानदारी से निभा रहे है।अपने परिजन और घर की चिंता के बावजूद पूरे उत्साह के साथ मरीजों की सेवा में लगे चिकित्सा कर्मी यह संदेश दे रहे हैं कि सेवा ही परम कर्तव्य है। घर पर अपने परिवारों को छोड़ क्षेत्र के क्वारंटाइन लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी निभा रहे हैं।बम्हनीडीह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के बीएमओ हरीश श्रीवास ने बताया कि ब्लाक क्षेत्र में बनाए गए क्वारंटाइन सेन्टर में सैकड़ों मजदूर लोगो को क्वारंटाइन किया गया हैं, जो महाराष्ट्र,गुजरात और अन्य प्रदेशों से आए हैं।इन लोगों का रुटीन चेकअप और आसपास के क्षेत्र में रह रहे लोगो के सर्वे कार्य का दायित्व भी स्वास्थ्य विभाग बखूबी निभा रहा है।बीएमओ हरीश श्रीवास ने बताया कि बम्हनीडीह ब्लाक अपने आप में ही एक अलग पहचान रखता है। क्षेत्र मजदूर व किसान बाहुल्य है यहां से हजारों की संख्या में मजदूर कमाने खबर के लिए अन्य प्रांतों में पलायन करते है अब जहा देश में कोरोना जैसे वैश्विक महामारी फैला है तो उन मजदूरों को राज्य सरकार वापस लाने की पहल कर रही है जिसके साथ वायरस से ग्रसित मजदूरों के भी आने की संभावना है जिसके कारण काम करना एक चुनौती है। लोग अपनी मस्ती में मस्त है। स्वास्थ्य के प्रति उनकी जागरूकता भी बहुत कम है। हम अपनी जिम्मेदारी समझ रहे, लोग भी समझें बीएमओ हरीश श्रीवास ने बताया कि अस्पताल में स्टाफ की भूमिका बहुत बड़ी है। कोरोना संक्रमण के दौर में घर,परिवार छोड़कर अपनी जिम्मेदारी तो निभा रहे हैं।साथ ही लोगो को भी समझें और जागरूक होने कि जरूरत है ताकि हम अपने प्रदेश को संक्रमण से पूरी तरह से मुक्त कर सकें। चुनौतियां तो है,लेकिन भी काम जरूरी अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर ममता द्वेदी का कहना है कोरोना संक्रमण के इस दौर में काफी चुनौतियां हैं, लेकिन समाज के लिए हमारा खड़ा होना बेहद जरूरी है। हर पल हमें सतर्क रहना पड़ता है। लोगों को लगातार स्वास्थ्य के प्रति जागरूक कर रहे हैं। स्थिति अभी ये हो चली है कि अस्पताल से जाने का कोई समय नहीं है। घर की चिंता लगे रहती है, लेकिन समाज भी हमारा परिवार है। नर्स स्टाफ का अहम योगदान,उनके बिना स्वास्थ्य व्यवस्थाएं अधूरी अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर एम एल सहारे बताते है कि अस्पतालों में नर्स स्टाफ का काम काफी अहम है। उसके बिना स्वास्थ्यगत व्यवस्थाएं अधूरी है। जितना योगदान एक चिकित्सक है, उतना ही जरूरी काम नर्स स्टाफ भी कर रहे हैं। वर्जन स्वास्थ्य कर्मी चिकित्सा जगत की नींव है। उनके सहयोग के बिना समाज को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करा पाना नामुमकिन है।

मैें लोगों से अपील करूंगा चिकित्सा कर्मियों का सम्मान करें। वह सिर्फ आपके ही सेवा में लगे हैं।

बीएमओ हरीश श्रीवास सीएचसी बम्हनीडीह

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close