Chhattisgarh

कुसमुण्डा : दुर्ग-रायपुर से पैदल निकले 40 मजदूर.. महिला बच्चों सहित चल रही थी भूखे पेट.. कुसमुण्डा पुलिस ने रोका.

छत्तीसगढ़/कोरबा : लॉक डाउन के बाद से पूरे देश भर से मजदूर अपने-अपने घर जाने लगातार लौट रहे हैं, पैदल चल रहे हैं। सरकार भी इन्हें वापस अपने घर पहुचाने हर सम्भव मदद कर रही है, बावजूद उसके अधिकांश मजदूरों तक ये मदद नही पंहुच पा रही है। कुछ दिन पूर्व भी बिलासपुर के रास्ते 19 मजदूर कुसमुण्डा पहुंचे थे। आज फिर दुर्ग-रायपुर से मध्य प्रदेश जाने बिलासपुर के रास्ते कुसमुण्डा पहुंचे जिन्हें कुसमुण्डा थाना प्रभारी द्वारा गंगा नगर के पास रुकवाया गया और उन्हें खाने पीने के लिए बिस्किट व पानी की व्यवस्था की।

छोटे छोटे बच्चों, महिलाओ के साथ पैदल चल रहे मजदूरों की हालात बहुत खराब हो चुकी है, उनका कहना है कि लॉक डाउन बढ़ने से उनके रहने खाने में परेशानी हो रही थी, ठेकदार भी खर्चा देने में असमर्थ था इस वजह से अपने घर पैदल निकल पड़े है। घर जाना है बस, अगर कोई घर तक पँहुचा दे बड़ी मेहरबानी होगी।

आपको बता दें ठेकेदार द्वारा अन्य राज्यों से मजदूर तो मंगवा कर काम ले लिया जाता है, पर जब अब लॉक डाउन की वजह से मजदूरों पर मुसीबत टूट पड़ी तो उनकी देख रेख करने के बजाय मुह मोड़ लिया जा रहा है, जिस वजह से मजदूर घर पैदल जाने को मजबूर है।

कुसमुण्डा थाना प्रभारी ने मजदूरों की स्थिति को देखते हुए उनकी सूचना उच्च अधिकारियों को दी जिसके तहत सभी के लिए बस की व्यवस्था की गई जिन्हें कटघोरा ले जाया गया है।

संवाददाता : ओम गभेल, कुसमुंडा

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!