CrimeNational

बेरमो : लाॅकडाउन में भी दामोदर नदी से जारी है ट्रैक्टरो द्वारा बालू का उठाव.. उड़ा रहे हैं नियमों का धज्जियां.

झारखंड/बेरमो : जहां एक तरफ पूरे विश्व के साथ भारत भी कोरोना संक्रमण महामारी का मार झेल रहा है जिसमें जरूरी सेवाओं को छोड़कर लगभग सभी सरकारी कार्य बंद है आवागमन बंद है प्राइवेट उद्योग धंधे बंद है मजदूरों का दिनचर्या काम बंद है जिससे देश का अर्थव्यवस्था बिगड़ रहा है जिसका असर भारत और राज्य सरकारों के साथ साथ सभी को झेलना पड़ रहा है लेकिन फिर भी भारत व राज्य सरकारों ने कोरोना जैसे महामारी को मात देने के लिए इसकी रोकथाम के लिए रात दिन एक कर दिया है जिसके कारण हमारे कितने जवान ,डॉक्टर अपनी जान की आहूती दी है ताकि जल्द से जल्द यह संक्रमण खत्म हो जाए साथी सभी लोगों को घर में रहने के लिए कई योजनाओं के द्वारा राशन सामग्री भी दी जा रही है भोजन करवाया जा रहा है ताकि सभी लोग घर में ही रहे और इस महामारी को खत्म कर सकें। वही आज रविवार को पेटरवार प्रखंड अंतर्गत खेतको दामोदर नदी घाट से दर्जनों ट्रैक्टरों द्वारा बालू का उठाव जारी है अब सवाल उठता है की जहां सैकड़ों ट्रैक्टर मालिकों ने लाॅकडाउन नियमों का पालन कर रहे हैं इस महामारी की रोकथाम के लिए साथ दे रहे हैं वही  दर्जनभर ही  ट्रैक्टर मालिक बालू का उठाव किसके सह और आदेश से कर रहे हैं जबकि ग्रामीण क्षेत्र से लेकर मुख्य मार्ग तक प्रशासन लोगों को लॉकडाउन का पालन करवाने के लिए मुस्तैद हैं सभी अखबारों न्यूज़ चैनलों के द्वारा घरों में ही रहने की अपील की जा रही है जिसके बाद भी कुछ ही  ट्रैक्टर मालिकों ने न सिर्फ लॉकडाउन के नियमों का धज्जियां उड़ा रहे हैं बल्कि इन लोगों पर प्रशासन का खौफ भी कहीं दिखाई नहीं देता है वही ट्रैक्टरों द्वारा एक जगह से दूसरी जगह जाने के कारण जाने अनजाने में कोरोना संक्रमण फैलने का डर खेतको के ग्रामीणों को सता रहा है वही कुछ ट्रैक्टर मालिकों ने भी नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि यह सभी ट्रैक्टर वाले नदी से बालू उठाकर तुपकाडीह, जैनामोड, उतरासरा आदि जगहों में मोटी रकम में बेच रहे हैं जबकि कुछ को छोड़ कर सभी ट्रैक्टर मालिकों ने अपना-अपना गाड़ी खड़ा कर रखा है । वहीं जब कभी भी बोकारो जिला खनन पदाधिकारी श्री गोपाल दास के दूरभाष संख्या  9835359006 पर दमोदर नदी के विभिन्न घाटों से हो रहे बालू के अवैध उठाव पर उनका पक्ष जानने के लिए फोन किया गया तो महाशय जी कभी भी फोन उठाना भी जरूरी नहीं समझते हैं ।
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!