ChhattisgarhCrime

पाली: वन अमले को बड़ी कामयाबी.. तीर धनुष धारी 11 शिकारी हिरासत में.. छापामारी में बरामद समान देखकर वनविभाग टीम के उड़े होश.

छत्तीसगढ़/कोरबा : कटघोरा वनमंडल अंतर्गत पाली वनपरिक्षेत्र में वन विभाग की टीम को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. वनमंडल कटघोरा की डीएफओ आईएफएस शमां फारूकी के निर्देश पर वनरक्षकों ने 11 शिकारियों को हिरासत में लिया है. ये सभी पेशेवर शिकारी थे और पिछले दिनों हुए वन्यजीवों के शिकार में इनकी संलिप्तता भी थी. सभी के पास से बड़ी में शिकार के लिए उपयोग में लाये गए तीर धनुष, टंगिया, फंदा और डंडा बरामद किया गया है.

इस बारे में INN24 से बात करते हुए डीएफओ ने बताया कि उन्हें पिछले दिनों विभाग और ग्रामीणों की तरफ से हिरण के मृत अवशेष बरामद हुए थे. यह सिलसिला काफी वक्त से चल रहा था. उन्हें अंदेशा था कि सम्भवतः ये सभी हिरण प्यास मिटाने जलस्रोतों के करीब पहुंचे होंगे और उनकी मौत हुई होगी. लगातार वन्यजीवों के अवशेष मिलने के बाद जांच पड़ताल के लिए उन्होंने पाली वनपरिक्षेत्र क्व रेंजर और अन्य अधिकारी-कर्मचारियों को क्षेत्र में गश्त बढ़ाने और जंगली जीवो के मौत की वजह पता लगाने के निर्देश दिए थे.

कल इसी परिप्रेक्ष्य में जब वनविभाग की टीम गश्त में थी तभी क्षेत्र के जंगलों में टीम को करीब आठ संदिग्ध नजर आए. सभी ग्रामीण वेशभूषा में थे और उनके पास नुकीले तीर धनुष अन्य हथियार थे. डीएफओ ने उन सभी से पूछताछ के बाद अन्य शिकारियों के धरपकड़ के लिए आठ टीमें तैयार की गई जिनमें तीन-तीन सदस्यों को रखा गया. सभी ने आज सुबह वनपरिक्षेत्र के डोंगानाला और सराईपाली गांव में दबिश दी. यहां से तीन अन्य शिकारियों को धर दबोचा गया.

छानबीन के दौरान सभी 11 शिकारियों के पास से 10 नग तीर धनुष, 5 नग फंदा, 3 नग रस्सा जाल, चार कुल्हाड़ी, एक सब्बल, 13 गुच्छा जंगली सूअर का बाल, दो नग उल्लू का बच्चा, एक नग भाला, स्टील का तार, दो गुलेल, गोटिया दो छुरी और चार नग मोबाइल बरामद किया गया है. सभी 11 शिकारियों को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धाराओं के तहत जेल दाखिल कराया जा रहा है.

Show More

Related Articles

Back to top button