Chhattisgarh

राजनांदगांव : मनरेगा के कार्य में भ्रष्टाचार व मनमानी.. मामला छुरिया ब्लॉक के बोईरडीह का.

छत्तीसगढ़/राजनाँदगाँव : जिले के अंतर्गत छुरिया ब्लॉक मुख्यालय से महज 4 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत बोईरडीह के आश्रित ग्राम तेन्दूटोला में मनरेगा के तहत चल रहे तालाब गहरीकरण कार्य में गड़बड़ी उजागर हुई है। रोजगार गारंटी अंतर्गत रोजगार मूलक कार्य करवाया जाता है जिसमें ग्रामीण मनरेगा जाॅब कार्डधारी को रोजगार मुहैया कराना होता है किन्तु प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत बोईरडीह के आश्रित ग्राम तेन्दूटोला में रोजगार देने की बजाय जेसीबी से तालाब की खुदाई कराई जा रही थी। इस गहरीकरण कार्य में सरपंच की संलिप्तता उजागर हुई है और इसका विडियो वायरल होने पर जनपद सीईओ ने जांच का आदेश दिया है।
जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत बोईरडीह के आश्रित ग्राम तेन्दूटोला में मनरेगा के तहत पुराना तालाब गहरीकरण कार्य के लिए 5.24 लाख रूपये की प्रशासकीय स्वीकृति मिली थी। मनरेगा योजनांतर्गत यह कार्य मजदूरों से कराया जाना था ताकि उन्हें अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध हो सके। किन्तु इस कार्य में सरपंच, सचिव, तकनीकी सहायक एवं रोजगार सहायक की मिलीभगत से जेसीबी का उपयोग करते हुए तालाब गहरीकरण कार्य की खुदाई कराई जा रही थी। जिसका विडियो वायरल होते ही जनपद पंचायत सीईओ नारायण बंजारे ने मामले को संज्ञान में लेते हुए टीम गठित कर जांच के आदेश दिए हैं। इधर लॉकडाऊन के चलते ग्रामीणों को रोजगार के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है और मनरेगा कार्य प्रारंभ होने से ग्रामीणों में रोजगार की आस बंधी थी,लेकिन जेसीबी से गहरीकरण कराए जाने से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। और ग्रामीणों ने शासन प्रशासन से इस मामले की जांच कर दोषियों पर कार्यवाही करने की मांग की है।

संवाददाता : सन्नी यदु,  राजनांदगाँव

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close