Chhattisgarh

कोरोना नियंत्रण के बाद विकास के दूसरे कामों पर कलेक्टर का फोकस वीडियो कांफे्रेंसिंग के जरिये धीमें पड़े कामों की समीक्षा की, अधिकारियों को कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करते हुए कामों में तेजी लाने दिये निर्देश

कोरबा : कोरबा तथा कटघोरा में कोविड-19 कसंक्रमण के नियंत्रण के बाद अब कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल का फोकस जनता की सहूलियत के अन्य दूसरे विकास कार्यों पर है। कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण पिछले कुछ दिनों से धीमे पड़े विकास कार्यों को तेजी से पूरा कराने के लिए कलेक्टर ने आज अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। श्रीमती कौशल ने वीडियो कांफे्रसिंग के माध्यम से विकासखंड स्तरीय अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की जमीनी हकीकत की जानकारी ली और गहन समीक्षा की। उन्होंने अब कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए गांव-गांव में या शहरी क्षेत्रों में धीमी गति से चल रहे विकास कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने विकास कार्यों के लिए जरूरी सामग्री, श्रमिक, अन्य विभागीय समन्वय के साथ-साथ मशीनरी आदि के भी इंतजाम के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। वीडियो कांफे्रंसिंग में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी श्री संजय अग्रवाल, जिला पंचायत के सीईओ श्री एस. जयवर्धन, डीएफओ कोरबा श्री एस.गुरूनाथन, डीएफओ कटघोरा सुश्री शमा फारूकी, अपर कलेक्टर श्रीमती प्रियंका महोबिया सहित सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद रहे और अपने-अपने विभागों के विकास कार्यों के बारे में कलेक्टर को जानकारी दी।     वीडियो कांफेंसिंग के जरिये हुई समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने वनांचल क्षेत्रों में वन अधिकार मान्यता पत्रों के वितरण की जानकारी अधिकारियों से ली। उन्होंने अगले तीन दिनों में पट्टा वितरण के लिए तैयार सूची का सत्यापन खतम करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। श्रीमती कौशल ने कटघोरा की कोरोना प्रभावित पंचायतों को छोड़कर अन्य सभी ग्राम पंचायतों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत ग्रामीणों को गांव में ही रोजगार देने के लिए अधिक से अधिक काम शुरू कराने के निर्देश जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को दिये। कलेक्टर ने अगले दो दिनों में सभी ग्राम पंचायतों से मनरेगा के तहत शुरू किये जाने वाले कामों के प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग और कामगारों को मास्क आदि लगाकर ही काम कराने के निर्देश रोजगार सहायकों को दिए। श्रीमती कौशल ने यह भी निर्देशित किया कि मनरेगा के कामों में अधिक से अधिक स्थानीय ग्रामीणों को रोजगार दिया जाये ताकि लाॅक डाउन के कारण ग्रामीणों को हुए आर्थिक नुकसान की भरपाई की जा सके। श्रीमती कौशल ने तहसीलदारों और पटवारियों को मनरेगा के कामों में लगे ग्रामीणों की वास्तविक संख्या का सत्यापन करने के निर्देश भी दिए।    श्रीमती कौशल ने सभी विकासखंडों में स्वीकृत नरवा विकास के कामों में तत्काल तेजी लाने के निर्देश दिए। बारिश के मौसम में नालों में बहने वाले पानी की अधिक से अधिक मात्रा को रोककर रखने और संरक्षित करने के लिए कलेक्टर ने नरवा विकास के तहत चेकडेम, बोल्डर चेकडेम, गेवियन और डाईक निर्माण के ज्यादा से ज्यादा काम शुरू करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने नरवा विकास के कामों में वन विभाग द्वारा ली जाने वाली अनुमतियों के लिए भी त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। श्रीमती कौशल ने जिले में लघु वनोपजों महुआ, माहुल पत्ता आदि की खरीदी की भी समीक्षा की और ग्रामीणों को सीधे फायदा पहुंचाने के लिये अधिक से अधिक मात्रा में वनोपजों की खरीदी करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने राशन कार्ड बनाने से लेकर गरीबी रेखा श्रेणी और अन्य राशनकार्ड धारकों को अगले दो महिने का राशन वितरण की प्रगति भी खाद्य अधिकारी से पूछी। श्रीमती कौशल ने बच्चों की आनलाईन पढ़ाई के लिए की जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी भी जिला शिक्षा अधिकारी से ली। उन्होंने सभी शिक्षकों को विद्यार्थियों के घर-घर जाकर पढ़ाई के लिए परिजनों के मोबाईल फोनों पर संबंधित एप्प डाउन लोड करने, उन्हें पढ़ने का पूरा तरीका बताने के साथ-साथ होमवर्क आदि गतिविधियों की भी जानकारी लेने के निर्देश दिए।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close