Chhattisgarh

सुकमा: छिंदगढ़ विकासखण्ड के प्राथमिक शालाओं में ‘‘सीख’’ कार्यक्रम का शुभारंभ.. खेल गतिविधियों के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा सीखेंगे बच्चें- कलेक्टर.

छग/सुकमा: कलेक्टर चंदन कुमार ने छिंदगढ़ विकासखण्ड के प्राथमिक शालाओं के लिए ’’सीख’’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने ’’सीख’’ कार्यक्रम को प्रत्येक बच्चे तक पहुंचाने की अपील पालकों, अभिभावकों और शिक्षकों से की है ताकि बच्चें खेल गतिविधियों के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा सीख सकें। उन्होंने कहा कि अचानक स्कूल बंद हो जाने से बच्चों के सीखने-सिखाने की प्रक्रिया में बाधा आई है। कोविड-19 के कारण यह स्थिति कब तक ऐसे ही रहेगी इसके बारे में कुछ भी कहना अभी संभव नहीं है। इसलिए यूनिसेफ की मदद से श्सीख श् कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों के लिए मजेदार और सरल तरीके से सीखने-सिखाने के अवसर तैयार किये है। प्रोग्राम का उद्देश्य छत्तीसगढ़ सरकार के प्रयासों को मजबूत बनाने के लिए प्राथमिक स्कूलों के सभी बच्चों को निरंतर सीखने में सहायता करने के अवसर देना है। इसमें लॉक डाउन के दौरान ही शिक्षक और अभिभावक के आपसी समन्वय से घर और समुदाय में बच्चों के लिए रोचक तरीकों से सीखने के अवसर सृजित किये जायेंगे ताकि बच्चों में सीखने-सिखाने की प्रक्रिया चलती रहे।

छत्तीसगढ़ के 3 विकासखण्डों में छिंदगढ़ भी शामिल-

छत्तीसगढ़ के 3 विकासखण्डों के प्राथमिक शालाओं से इस कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है जिसमे सुकमा जिले के छिंदगढ़ विकासखण्ड भी शामिल है। छिंदगढ़ के 27 संकुलों के सभी प्राथमिक शालाओ में इसका क्रियान्वयन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में शिक्षकों द्वारा अभिभावकों को व्हाटसअप ग्रुप के माध्यम से सीखने की सामग्री को साझा किया जाएगा। जो कि चित्र, छोटे वीडियो, पोस्टरध्पृष्ठ आदि के साथ एक स्पष्ट निर्देशिका जो कि ऑडियो क्लिप के रूप में होगी इसे पालकों के साथ साझा किया जाएगा। उदाहरण के लिए अगर एक विडियो साझा की है तो उसके साथ एक ऑडियोक्लिप द्वारा उस विडियो में बच्चे और पालक को क्या करना उसे समझाया जाएगा। ऑडियो क्लिप से पालकों को गतिविधि को समझने में अधिक मदद मिलेगी। जिनका उपयोग बच्चों के साथ मिलकर घर या समुदाय स्तर पर कर पायेंगे। पठन सामग्री के वितरण के लिए स्कूल के साथ-साथ संकुल, विकासखंड और जिला स्तर पर भी ग्रुप बनाया जाएगा।

हर सप्ताह अभिभावकों से 2 पठन गतिविधियां सोमवार और शुक्रवार को साझा की जाएगी जो कि भाषा और गणित विषयों पर केन्द्रित होंगी। इसके साथ ही कुछ बुनियादी विज्ञान, खेल और जीवन कौशल शिक्षा गतिविधियां भी होगी। ये गतिविधियां पालकों के दैनिक दिनचर्या से संबंधित होगी ताकि इन्हें करने से पालकों को कोई परेशानी न आए। कोविड-19 से संबंधित विशेष सावधानियों पर जागरूकता की जानकारी पूरे कार्यक्रम के दौरान दी जाएगी। इस कार्यक्रम के सुचारू संचालन के लिए नियमित रूप से हर हफ्ते पालकों से फीडबैक भी लिया जाएगा। जिसकी जिला स्तर पर समीक्षा कर कार्यक्रम में आवश्यक फेरबदल भी किये जा सकेंगे।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close