National

लॉकडाउन का पालन न करने वाले युवाओं को कोरोना मरीज के बीच धकेला और फिर..

INN24: कोरोना संकट से निपटने के लिए देश में लॉकडाउन लागू है. लॉकडाउन के तहत लोगों को घर में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालने करने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही सिर्फ जरूरी काम के लिए ही घर से बाहर निकलने के निर्देश दिए गए हैं. हालांकि इसके बावजूद लोग गैर-जरूरी काम के लिए भी घर से बाहर निकलने से बाज नहीं आ रहे हैं. कोरोना वायरस से बचाव के लिए मुंह को ढकने के लिए मास्क, रूमाल, गमछा आदि की सलाह भी दी गई है. हालांकि कई लोग अभी भी इन निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं. ऐसे में तमिलनाडु में तिरुपुर पुलिस ने लोगों को जागरूक करने के लिए एक अलग ही तरीका अपनाया.

दरअसल, तिरुपुर में कुछ युवा बिना मास्क के बेवजह टू व्हीलर पर घूम रहे थे. इस दौरान पुलिस ने उन्हें पकड़ा और उन्हें सबक सिखाते हुए जागरूक किया. पुलिस ने युवाओं को एक एंबुलेंस में प्रवेश कराया और जानकारी दी कि इस एंबुलेंस में एक कोविड-19 का मरीज है. इसके बाद तो युवाओं की सिट्टी पिट्टी ही गुल हो गई. सभी युवा पैनिक में आ गए और एंबुलेंस से बाहर जाने की कोशिश करने लगे.

इसका एक वीडियो भी सामने आए है. वीडियो में दिखता है कि एक शख्स एंबुलेस में है और सभी युवा उसे कोरोना मरीज समझ रहे हैं. जिसके कारण युवा घबरा जाते हैं और एंबुलेंस से बाहर निकलने की कोशिश करते हैं. एक युवा एंबुलेंस की खिड़की से ही बाहर निकल जाता है लेकिन बाकी युवा एंबुलेंस में ही रह जाते हैं और बाहर निकलने की कोशिश करते हैं. एंबुलेस में युवा घबरा जाते हैं और बाहर निकलने की कोशिश करते हैं लेकिन वो निकल नहीं पाते.

वहीं वीडियो के आखिर में एक महिला पुलिस अधिकारी इसके पीछे की मंशा भी बताती है. महिला पुलिस अधिकारी बताती है कि लोग लॉकडाउन के महत्व को नहीं जानते हैं और घर से बाहर निकल जाते हैं. लेकिन बाहर जाना असुरक्षित है क्योंकि आप नहीं जानते कि आप कहां बीमारी के संपर्क में आ जाएं. उन्होंने बताया कि जो युवा मास्क नहीं पहने हुए थे वे अब इसके महत्व को जान गए हैं. वहीं जिस शख्स के बारे में कहा था कि वो कोविड-19 का मरीज है, असल में वो इस जागरूकता को फैलाने में एक्टिंग कर रहा था.

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!