Chhattisgarh

लॉक डाउन का फायदा उठा रहा SECL गेवरा प्रबन्धन, ग्रामीणों से किये वादे से मुकर कर रहा खनन,आक्रोशित ग्रामीणों ने बन्द कराया कार्य….

कोरबा :  भिलाई बाजार अंतर्गत भुस्थापित ग्राम भठोरा के ग्रामीणों ने कल सोमवार की शाम SECL गेवरा खदान के वादा खिलाफी से तंग आकर  आपस मे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खदान में चल रहे कार्य को बंद करा दिया, आपको बता दें एसईसीएल प्रबंधन के अधिकारियों द्वारा बीते 5 मार्च को आन्दोलन के दौरान भठोरा वासियो को लिखित में  आस्वस्त किया था कि पंद्रह दिन के भीतर अर्थात 20 मार्च तक ग्राम भठोरा के भुविस्तापितो को गंगानगर में पुनर्वास के लिये जमीन व बेरोजगार युवाओं को स्थाई रोजगार की व्यवस्था कर दी जाएगी, परन्तु 1 माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी आज तक ग्रामीणों की इस समस्या का समाधान नही किया जा सका है l
कोरोना महामारी के मद्देनजर देश व प्रदेश में लॉक डाउन की स्थिति निर्मित है, एक ओर जंहा प्रबन्धन आवश्यक सेवाओ का हवाला देकर खदान के विस्तार कार्य को प्रारंभ रख भठोरा ग्राम से लगे खदान क्षेत्र में तेजी से कार्य कर रहा  है, अत्यधिक ब्लास्टिंग की जा रही है, जिससे आसपास के घरों में दरार पड़ रही है, लोग भयभीत है, इन सबसे परेशान होकर गांव वालों ने आज प्रदेश सरकार द्वारा आदेशित लॉक डाउन के दौरान सोशल डिटेंसिंग का पालन करते हुए एसईसीएल गेवरा खदान के अनुचित कार्यशैली के विरोध में  खदान के उत्खनन कार्य को 2 घण्टे तक बंद करा दिया l प्रबन्धन के अधिकारियों द्वारा समझाइस देने के बाद ग्रामीण खदान से हटे l
आंदोलन की जानकारी मिलते ही मोबाइल के माध्यम से बात करते हुए कोरबा जिला पंचायत उपाध्यक्ष अजय जायसवाल ने कहा कि “जल्द से जल्द भठोरा वासियों के समस्या का समाधान होना चाहिए, नही तो तो लॉक डाउन खुलते ही गेवरा खदान को पूर्ण रूप से बंद कराया जाएगा, प्रबन्धन के द्वारा की जा रही लगातर वादाखिलाफी के खिलाफ उग्र आंदोलन किया जावेगा”
वही खदान बन्द करवाने पँहुचे ग्रामीणों का कहना था कि एसईसीएल गेवरा द्वारा बीते माह किए गए वादे से मुकरते हुए और बड़े पैमाने पर खदान के उत्खनन के कार्य का विस्तार किया जा रहा है, लॉक डाउन में अधिकारियो को पता है कि उनके विरोध में ग्रामीणों बाहर नहीं निकल पाएंगे इस वजह से नियमो को ताक पर रख कर खनन कार्य किया जा रहा है…. पूर्व में जिस जगह से काम बंद कराया था उस जगह से लगभग 200-300 मीटर आगे बढ़ गई है, और गांव के नजदीक नाली निर्माण का कार्य भी जोरो पर है, जिसका गाँव वाले विरोध कर दो दिन पूर्व नाली निर्माण के काम को बंद करा दिए ।  जिन गांव वालों ने नाली खुदाई के काम को बंद करवाया था उनके परिजनों को जो कि एसईसीएल गेवरा में नौकरी कर रहे हैं उन्हें प्रबन्धन के अधिकारियों द्वारा निलंबित करने की धमकी भी दी जा रही है, इन सभी बातों को लेकर गांव वालें आक्रोशित हैं,और उन्होंने ये कदम उठाया l
रिपोर्ट : ओम गभेल कुसमुंडा
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close