Chhattisgarh

लॉक डाउन से नक्सलियों की टूटी कमर.. हुए बेबस.. ग्रामीणों पर कर रहे अत्याचार की कोशिश.. बस्तर IG सुंदर राज पी ने कहा. 

छत्तीसगढ़/बस्तर : कोरोना वायरस महामारी को देखकर पूरे देश में 21 दिन का लॉक डाउन लगा हुआ था बस्तर के नक्सली क्षेत्रों में नक्सली बेबस और लाचार हुए हैं नक्सली भूखे मरते नजर आ रहे हैं। 21 दिन के लॉक डाउन में नक्सलियों को जरूरी सामान नहीं मिला और अब सरकार ने पूरे देश में लॉक डाउन 3 मई तक बढ़ा दिया है। नक्सलियों की मुश्किल कम होती नजर नहीं आ रही अब नक्सली ग्रामीणों से राशन और पैसे की मांग कर रही है और अंदरूनी क्षेत्रों में ग्रामीणों को जो लॉक डाउन के चलते राहत का राशन मिल रहा था उसे नक्सली अब लूटने की कोशिश में लगे हुए हैं बस्तर आईजी सुन्दर राज पी ने बताया कि लाक डाउन के चलते सभी बॉर्डर को सील कर दिया गया है जिससे नक्सलियों को जो सप्लाई नेटवर्क में काफी हद तक कमजोर हुए हैं, जिसके चलते नक्सली को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। नक्सली गांव वालों पर निर्भर रहते हैं। नक्सली डरा धमका कर राशन सामग्री लिया करते थे और कोरोना संकट को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में निशुल्क सामग्री दी जा रही है नक्सली अब ग्रामीणों से राशन सामग्री लूटने की कोशिश भी की जा रही है। नक्सलियों का अमानवीय चेहरा दर्शाता है जिसके चलते ग्रामीणों में आक्रोश है। लगातार नक्सलियों द्वारा ग्रामीणों का शोषण किया जाता है ग्रामीण खुद ही परेशान हैं और नक्सलियों की इस हरकत से ग्रामीण भी आक्रोश में दिखाई दे रहे हैं

बस्तर आईजी का कहना है कि लगातार हमारे जवान पूरी मुस्तैदी से हैं नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब देने सर्चिंग अभियान चलाया जा रहा है और लगातार कार्रवाई भी की जा रही है।

संवाददाता : विजय पचौरी, बस्तर

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!