Chhattisgarh

कोरबा: जिला अस्पताल में भर्ती महिला के मौत की वजह कोरोना नहीं.. जांच में रिपोर्ट आई निगेटिव.

कोरबा: इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में भर्ती महिला की मौत कोरोना वायरस संक्रमण से नहीं होने की पुष्टि हो गई है. मृतक महिला के भेजे गये सेंपल की जांच रिपोर्ट एम्स रायपुर से निगेटिव आ गई है. कल 12 अपे्रल को सुबह अस्पताल में भर्ती बालको भदरापारा निवासी बीमार अधेड़ महिला की ईलाज के दौरान मौत हो गई थी. महिला की मौत की खबर मिलते ही वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ अस्पताल पहुंची कलेक्टर किरण कौशल ने कोरोना वायरस के संक्रमण संबंधी मौजूदा हालातों को देखते हुए तत्काल मृतका का कोरोना टेस्ट कराने के निर्देश अस्पताल के डाक्टरों को दिए थे. इसके बाद ऐतिहात बरतते हुए तत्काल महिला का सेंपल लेकर उसे जांच के लिए रायपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भेजा गया था. आज महिला की जांच रिपोर्ट निगेटिव आ गई है और महिला के कोरोना संक्रमित नहीं होने की भी पुष्टि हो गई है. मृतक महिला का शव जांच रिपोर्ट आने के बाद अस्पताल प्रबंधन द्वारा उसके परिजनों को देर शाम सौंप दिया गया है.
मृतक महिला की अस्पताल में भर्ती होने के पहले किसी भी तरह से कोरोना संक्रमण से संबंध होने की कोई हिस्ट्री नहीं थी. मृतका कभी भी कोरोना संक्रमित संदिग्ध के रूप में किसी भी क्वारेंटाईन सेंटर में नहीं रखी गई थी. मृतका से संबंधित किसी भी परिजन को भी कोरोना संबंधी कोई भी संक्रमण नहीं है. फिर भी प्रशासन ने मौजूदा हालातों में सावधानी बरतते हुए महिला का सेंपल टेस्ट के लिए भेजा था.
महिला का ईलाज कर रहे डाक्टरों ने बताया है कि उसे 10 अपे्रल को शाम साढ़े छः बजे बालको अस्पताल से जिला अस्पताल रिफर किया गया था. महिला को उल्टी-दस्त की बीमारी को लेकर बालको अस्पताल में भर्ती किया गया था जहां से सांस लेने में तकलीफ होने पर जिला अस्पताल लाया गया. महिला का पहले ही स्तन कैंसर का आपरेशन हो चुका था. बालको अस्पताल से रिफर हुई इस महिला को जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था और इस दौरान उसका विशेषज्ञ डाक्टर की निगरानी में ईलाज किया जा रहा था. ईलाज के दौरान ही 11 अप्रैल को रात्रि लगभग तीन बजे महिला की मृत्यु हो गई थी. महिला की मौत की सूचना मिलते ही प्रशासन अलर्ट हो गया था. महिला का शव ऐतिहात के तौर पर अस्पताल की मर्चुरी में सुरक्षित रखा गया था. जिसे आज सेम्पलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया.

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!