ChhattisgarhCorona UpdateNational

सरहद पार भारतीय मज़दूरों को मिली मदद.. महज कुछ ही घंटों में प्रशासन ने ढूंढा समस्या का हल.

छत्तीसगढ़/रायगढ़: शहर का एक युवक जो भूटान देश मे रोलिंग मिल में कार्यरत है उसने एक वीडियो रायगढ़ में अपने परिवार को भेजा है. जिसमे उसने अपने साथ रह रहे 30 से 35 मज़दूरों की व्यथा सुनाई. दरअसल भूटान में रह रहे भारतीय मजदूर भूखे पेट रहने को विवश थे वँहा न उन्हें खाना मिला है न ही वेतन. रोहित सिंह नाम का युवक जिसने वीडियो भेजा उनके परिजनों ने रायगढ़ में एक पत्रकार को वह वीडियो भेज और मदद की गुहार लगाई. पत्रकार ने अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए इस मुद्दे को उठाया और खबर के माध्यम से शासन प्रशासन तक भूटान में काम कर रहे भारतीय मज़दूरों की समस्या पहुंचाने का प्रयास किया. खबर का असर कुछ ऐसा हुआ और बिलासपुर की अधिवक्ता व सामाजिक कार्यकर्ता प्रियंका शुक्ला ने रायगढ़ से रोहित सिंह की जानकारी लेनी शुरू कर दी. लगातार ट्वीट कर प्रियंका शुक्ला ने प्रशासन को भूटान में रह रहे मज़दूरों की मदद का प्रयास करती रही. आखिरकार मेहनत रंग लाई और महज़ कुछ ही घण्टो में रोहित के परिजनों तक उच्चाधिकारियों के फोन आने शुरू हो गए. भूटान रोलिंग मिल के मालिक से उच्चाधिकारियों की बातचीत हुई और वँहा रह रहे मज़दूरों को भोजन की सुविधा प्रदान करने की व्यवस्था की गई है. कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉक डाउन की स्थिति में सरहद पार दूसरे देश मे फंसे लोगों के लिए ऐसे व्यक्ति मसीह साबित हो रहे है जो निस्वार्थ भाव से अपना काम कर लोगो की मदद कर रहे है ऐसे ज़ज़्बे को सलाम है.

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close