Chhattisgarh

रायगढ़ : लॉक डाउन में लोगों का जीवन आसान बना रही है नारी शक्ति.. पोषण दूत बनकर हितग्राहियों तक पहुंचा रही है रेडी टू ईट और सूखा राशन.

  • वित्तीय राहत के लिए बैंक सखी भी पहुंच रही है लोगों के घरों तक
  • 1 लाख 23 हजार 534 लोगों तक पहुंची पोषण सहायता
  • 482 लोगों को मिली आर्थिक मदद

छत्तीसगढ़/रायगढ़ : कोरोना वायरस (कोविड-19)के संक्रमण के प्रभावी रोकथाम के लिए लॉक डाउन प्रभावशील है। अति आवश्यक सेवाओं के अतिरिक्त समस्त कार्य प्रतिबंधित है। गैर जरूरी व्यवसाय, प्रतिष्ठान, कार्यालय बंद है। लोगों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है। ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में भी प्रशासन जनहितैषी एवं कल्याणकारी योजनाओं का लाभ हितग्राही तक लगातार पहुंचा रहा है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश को कुपोषण मुक्त बनाने के संकल्प के साथ मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान प्रारंभ किया है। इस कठिन समय में उनके संकल्प को पूर्ण करने के प्रयासों को अनवरत जारी रखने का बीड़ा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने उठाया है, जो पूरी कर्तव्यनिष्ठा के साथ पोषण दूत बनकर हितग्राहियों के घरों तक पहुंच रही है तथा उन्हें पोषण आहार एवं रेडी टू ईट प्रदान कर रही है।

इस कार्य को करने के लिए कार्यकर्ताओं को कई विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है फिर भी उनके जज्बे में कोई कमी नहीं है। महिला बाल विकास परियोजना कापू के पहाड़ी अंचल में बसा एक गांव है टेडासेमर। इस गांव में मुख्यत: पहाड़ी कोरवा निवास करते हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती रेखा लॉक डाउन के चलते खाने-पीने की समस्या से जूझ रहे इन लोगों तक पोषण आहार के साथ राशन पहुंचाने में मददगार साबित हो रही है। इसके साथ ही ग्रामीणों को पोषण के साथ कोरोना महामारी से लडऩे के लिए हाथों की सफाई, व्यक्तिगत स्वच्छता, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जैसे स्वास्थ्य सुरक्षा के गुर भी सीखा रही है। महिला बाल विकास विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले के समस्त विकासखण्डों में कुपोषित बच्चों, गर्भवती व शिशुवती माताओं को मिलाकर कुल 1 लाख 23 हजार 534 हितग्राहियों तक 15 दिनों का सूखा राशन व रेडी टू ईट पोषण आहार पहुंचाया गया है।

बैंक सखी हितग्राहियों के घरों तक जाकर कर रही है राशि का भुगतान

कोरोना महामारी के चलते लागू देशव्यापी लॉक डाउन के बीच लोगों की वित्तीय समस्याओं को दूर करने बैंक सखी लोगों के घरों तक जाकर उन्हें राशि का भुगतान कर रही है। जिससे लोगों को घर बैठे ही आर्थिक मदद मिल रही है। इस दौरान बैंक सखी कोरोना वायरस से बचाव के सुरक्षात्मक उपायों का भी पालन कर रही है। रायगढ़ विकासखण्ड में बैंक सखियों द्वारा एक दिन में ही 5 लाख 87 हजार 700 रुपए का भुगतान किया गया है। जनपद कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार 8 अप्रैल को कुल 13 बैंक सखियों ने 482 ट्रांजेक्शन करवाये। जिसमें 152 लोगों को 2 लाख 22 हजार 600 रुपए का पेंशन राशि का भुगतान किया गया। इसी प्रकार मनरेगा के 11 हितग्राहियों को 25 हजार रुपए, प्रधानमंत्री जनधन योजना के 192 खाताधारकों को 96 हजार, प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना के 33 लाभार्थियों को 75 हजार रुपए, उज्जवला योजना अंतर्गत 37 लोगों को 41 हजार रुपए, एक व्यक्ति को धान बोनस 3500 रुपए तथा 52 लोगों को अन्य भुगतान अंतर्गत 124600 रुपए का भुगतान किया गया।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!