Chhattisgarh

सांसद सुनील सोनी का सीएम पर तीखा वार.. कहा – ‘बिना तैयारियों के फ़रमान जारी करना प्रदेश के लोगों के साथ मजाक’

सांसद सोनी का सवाल : मुख्यमंत्री बताएँ, हज़ारों लोगों का परीक्षण कहाँ और कैसा होगा?

कटघोरा में कोरोना के सात नए मरीज मिलने के बाद सांसद सुनील सोनी का सीएम पर तीखा वार.. कहा – ‘बिना तैयारियों के फ़रमान जारी करना प्रदेश के लोगों के साथ मजाक

छत्तीसगढ़/रायपुर : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और सांसद सुनील सोनी ने कटघोरा में सात नए कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने के बाद की गई घोषणाओं के मद्देनजर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर तीखा कटाक्ष किया है। श्री सोनी ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल काम करने के बजाय आत्ममुग्धता और हठधर्मिता की पराकाष्ठा लांघ रहे हैं। मुख्यमंत्री बघेल नित-नए फरमान जारी तो कर रहे हैं लेकिन इन पर अमल करने में आने वाली व्यावहारिक दिक्कतों के बारे में विचार नहीं किया जा रहा है।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष व सांसद श्री सोनी ने कटघोरा को सील कर पूरे नगर का चिकित्सकीय परीक्षण कराने की घोषणा पर मुख्यमंत्री बघेल से सवाल किया है कि 80 हजार की आबादी के इस नगर के सभी लोगों का टेस्ट कराने के लिए प्रदेश सरकार के पास कितने लैब हैं? प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की क्या इतनी क्षमता है कि वह 80 हजार लोगों का टेस्ट करा सके? मुख्यमंत्री बघेल को यह स्पष्ट करना चाहिए कि वे 80 हजार की आबादी को परीक्षण कहाँ और कैसे कराएँगे? श्री सोनी ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल डींगे मारने के आदी हैं लेकिन ईमानदारी से उपलब्ध संसाधनों के बूते प्रदेश को कोरोना से मुक्त कराने के बजाय वे इस गहन संकट के दौर में भी सियासी नौटंकी करने की अपनी आदत से बाज नहीं आ रहे हैं और छत्तीसगढ़ की जनता के स्वास्थ्य से मजाक कर रहे हैं।

श्री सोनी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में फिलहाल एम्स में ही कोरोना का इलाज हो रहा है और प्रदेश सरकार सारे मरीजों को इलाज के लिए वहाँ भेज तो रही है लेकिन एम्स को किसी भी तरह की मदद मुहैया नहीं कराई जा रही है। सच यह है कि एम्स में दो घण्टे में 48 मरीजों का परीक्षण हो रहा है। इस तरह लगातार 20 घण्टे परिश्रम कर लगभग 450 मरीजों का परीक्षण किया जा रहा है। एम्स प्रबन्धन, डॉक्टर्स, नर्सेस व अन्य सभी सेवाभावी अधिकारियों व कर्मचारियों के पुरुषार्थ के प्रति आभार मानना तो दूर, एम्स पर परीक्षण व इलाज का दबाव बनाने वाली प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री अथवा किसी भी अन्य मंत्री ने एम्स में झाँकने की जहमत तक नहीं उठाई है।

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व सांसद श्री सोनी ने कहा कि प्रदेश सरकार केवल बातों का जमाखर्च कर रही है और मैदानी स्तर पर कोरोना संक्रमण के खिलाफ़ जारी इस जंग में वह फिसड्डी ही साबित हो रही है। हर बार अपनी जिम्मेदारियाँ केन्द्र सरकार पर डालकर प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने दायित्व से मुँह चुराने का काम कर रहे हैं। सरकार कोरोना संक्रमण के खिलाफ जारी जंग में कितनी लापरवाही बरत रही है, इसका सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है। श्री सोनी ने कहा कि कटघोरा के बाद रतनपुर में एक दरगाह में एकत्रित 16 लोगों पर केस दर्ज होने के बाद यह आशंका पुष्ट हुई है कि लॉकडाउन के प्रति सरकार जरा भी गम्भीर नहीं है।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष व सांसद श्री सोनी ने मुख्यमंत्री बघेल द्वारा शुक्रवार को वीडियो पत्रकार वार्ता में दी गई सरकारी जानकारियों को सफेद झूठ का पुलिन्दा बताया और कहा कि मुख्यमंत्री समेत तमाम कांग्रेस नेताओं को कोरोना को लेकर निकृष्ट राजनीति से बाज आकर गम्भीरता के साथ प्रदेश को कोरोना मुक्त करने के लिए ईमानदार कोशिश करना चाहिए। मुख्यमंत्री बघेल कोरोना को लेकर केन्द्र सरकार पर हमलावर होने की सस्ती राजनीति कर रहे हैं। केन्द्र सरकार पर आरोप लगाने के बजाय मुख्यमंत्री बघेल अपनी इस विफलता पर शर्म महसूस करें कि वे इतने दिनों में इस महामारी की जाँच के लिए न तो एक वार्ड बना पाए हैं और न ही एक लैब। प्रदेश सरकार हर बात के लिए केन्द्र पर दोष मढ़ने के बजाय पहले अपने संसाधन जुटाने और इस महामारी के खात्मे के लिए अपनी तैयारी प्रदर्शित करे। श्री सोनी ने नसीहत दी कि मुख्यमंत्री बघेल इस वक्त केन्द्र सरकार को ज्ञान बाँटने के बजाय कोरोना के खिलाफ रणनीतिक तैयारियों पर ध्यान दें और एचएलएल से जरूरी मेडिकल किट्स मंगवाकर प्रदेश को राहत पहुँचाएँ। मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा हो रही राशि इस जंग में कहीं भी खर्च होती नहीं दिख रही है।

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close