Chhattisgarh

के एस के प्रबंधन द्वारा भुविस्थापित पेंशनरों से छलावा

अकलतरा : के एस के प्रबंधन के द्वारा भुविस्थापितो को मिलने वाला पेंशन (जीवन निर्वाह भत्ता) पिछले वर्ष के  जून, जुलाई एवं अगस्त माह का भुगतान आज दिनाँक तक नहीं किया गया, जिसके लिए जीवन निर्वाह भत्ता समिति के द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है, किंतु प्रबंधन द्वारा कई प्रकार की भ्रम की स्थिति पैदा कर अंत मे एन. सी. एल. टी. का बहाना बताया जा रहा है, जबकि के. एस. के. प्रबंधन के अधिकारि, कर्मचारी, एवं ठेकेदार का सभी भुगतान किया जा चुका है, यहा उल्लेखनीय बात तो ये है कि इस संबंध में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं शासन के उच्च अधिकारियो को भी पूर्व में अवगत कराया जा चुका है, किंतु आज करोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन की स्थिती में किसान जो कि प्लांट के भुविस्थापित है, जिनकी आर्थिक स्थिति दयनीय है, जिनकी रोजी मजदूरी लॉकडाउन के स्थिति में ग्रामीण स्तर में पूर्ण रूप से बंद है, सभी किसान परिवार पेंशन पर ही आश्रित है, शासन एवं प्रशासन के द्वारा अनेक प्रकार से किसानों की मदद का प्रयास किया जा रहा है एवं जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने का प्रयाश किया जा रहा है, लेकिन के एस के प्रबंधन के द्वारा किसानों का अनदेखा करते हुए एन सी एल टी का बहाना बताकर 600 से अधिक 8 ग्रामो के किसानों के साथ छलावा  किया जा रहा है, जबकि भुविस्थापित पेंशन संघ प्लांट को सुचारू रूप से चलाने में सहयोग करता आ रहा है, लेकिन किसानों की सरलता को प्रबंधन कमजोरी समझ कर शोषण न करे, भुविस्थापित ग्रामीण किसान परिवारों ने क्षेत्र के सभी जनप्रतिनिधियों , शासन एवं प्रशासन के अधिकारियों से समाचार पत्रिका के माध्यम से उपरोक्त तीन माह का पैसा जल्द से जल्द भुगतान कराने का मांग किया है, जिससे उनको लॉक डाउन की इस विकट स्थिति में आर्थिक रूप से सहयोग मिल सके l

Show More

Related Articles

Back to top button