Chhattisgarh

जिले में 84 हजार से अधिक बच्चों, गर्भवती और शिशुवती महिलाओं को घर-घर जाकर स्वास्थ्यप्रद रेडी-टू-ईट फूड का किया गया वितरण.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा हितग्राहियों के परिवार के सभी सदस्यों को अपने घरों में रहने, कोरोना वायरस से बचने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने, एवं हाथों को साबुन से बार बार धोने के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है

छत्तीसगढ़/मुंगेली: कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे के दिशानिर्देश पर नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव हेतु जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में पंजीकृत 84 हजार 31 हितग्राहियों के घर घर जाकर रेडी-टू-ईट पोषण आहार का वितरण किया जा रहा हैं। इसी तरह लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा 2 हजार 18 एनीमिया पीड़ित महिलाओं को उनके घर जाकर सूखा राशन का भी वितरण किया जा रहा है। साथ ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा हितग्राहियों के परिवार के सभी सदस्यों को अपने घरों में रहने, कोरोना वायरस से बचने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने, एवं हाथों को साबुन से बार बार धोने के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है।
महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री राजेन्द्र कश्यप ने बताया कि वर्तमान परिस्थिति में पूरा देश नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण से लड़ रहा है। इस परिस्थिति में मुंगेली जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं और महिला स्वसहायता समूहों द्वारा 84 हजार 31 बच्चों, गर्भवती एवं शिशुवती माताओं को उनके घर जाकर स्वास्थ्यप्रद रेडी-टू-ईट फूड का वितरण किया जा रहा है। इसी तरह मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत जिले के 20 पंचायतों के 81 आंगनबाड़ी केन्द्रो में 6 माह से 5 वर्ष तक के कुपोषित बच्चों को पौष्टिकता युक्त आहार दिया जा रहा है तथा ही स्वेच्छिक दान मद से 2 हजार 18 एनीमिया पीड़ित महिलाओं को 21 दिन का सूखा राशन वितरित किया गया है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close